मप्र के पूर्व CM बाबूलाल गौर के निधन पर शिवराज ने जताया दुःख,कहा उनकी जगह कोई नहीं ले सकता

New Delhi : मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के दिग्गज नेता बाबूलाल गौर के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गहरा दुःख जताया है। उन्होंने कहा पूर्व मुख्यमंत्री, श्रद्धेय बाबूलाल गौर के निधन के बाद मध्यप्रदेश की राजनीति में एक महत्वपूर्ण जगह खाली हो गई है जो कभी नहीं भर सकती।

आज उन्हें राजकीय सम्मान के साथ विदा करते हुए मन बहुत भारी है। ऐसा लग रहा है कि मेरे सिर से आशीर्वाद का हाथ हमेशा-हमेशा के लिए उठ गया। नमन, श्रद्धांजलि! उन्होंने कहा मध्यप्रदेश की राजनीति में एक युग का अंत हो गया। मजदूर से लेकर मुख्यमंत्री तक का सफर माननीय बाबूलाल गौर जी ने अपने परिश्रम के बल पर तय किया था। निरंतर कर्म, यही मेरा धर्म को उन्होंने चरितार्थ किया। वो लगातार काम करते रहे। वह जिंदादिल इंसान थे। श्रीमान बाबूलाल गौर जी एक विधानसभा से लगातार 44 वर्षों तक लगभग आधी शताब्दी तक चुने जाते रहे, यह अपने आप में एक रिकॉर्ड है। मैंने तो अपनी राजनीति का प्रारम्भ ही उनके चुनाव प्रचार से किया था। 1974 में उनके चुनाव प्रचार में दिन और रात काम किया था।

साथ ही उन्होंने कहा जनता की सेवा अपने क्षेत्र में कैसे की जाती है? यदि यह किसी को सीखना हो, तो श्रीमान बाबूलाल गौर जी से सीखे। जो दायित्व दिया गया, उसका निर्वाह पूरी कुशलता के साथ किया। भोपाल को उन्होंने आधुनिक स्वरूप दिया। वीआईपी रोड बनाना और अतिक्रमण हटाना बाबूलाल जी के ही जीवट की बात थी।

अद्वितीय साथी, हमारे वरिष्ठ जिनके साथ मैं जेल में भी रहा, उनके जाने से मध्यप्रदेश के सार्वजनिक और राजनैतिक जीवन में जो शून्य पैदा हुआ है, उसे हम कभी भर नहीं पायेंगे। मैं अपनी और पार्टी की ओर से उनके चरणों में श्रद्धा के सुमन अर्पित करता हूं।