माता ने बुलाया है : मां के दरबार में सोशल डिस्टेन्सिंग प्रभावी, 450 घोड़े और चालक का कोरोना टेस्ट हुआ

New Delhi : देशभर के सभी धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की गृह मंत्रालय की एडवाइजरी से पिछले ढाई महीनों से बंद श्रीमाता वैष्णो देवी यात्रा के फिर से शुरू करने की कवायद तेज हो गई है। स्थानीय लोगों ने राहत की सांस लेते हुए उम्मीद जताई है कि श्रीमाता वैष्णो देवी यात्रा शुरू होने के बाद देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं से वीरान पड़े कटरा के शिविर में फिर से रौनक लौट आयेगी। कोरोना की वजह से 18 मार्च से श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा की यात्रा पूरी तरह से बंद पड़ी है। नगर कटरा के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कटरा का व्यापार पूरी तरह से माता वैष्णो देवी की यात्रा पर ही निर्भर है। लेकिन यात्रा बंद होने से स्थानीय लोगों की कमाई पूरी तरह से बंद हो चुकी है। हालांकि अगर दूसरे राज्यों की बात करें तो वहां कहीं ना कहीं थोड़ी बहुत चहल-पहल देखने को मिल रही है। लेकिन वैष्णो देवी यात्रा बंद होने के चलते नगर कटरा पूरी तरह से बंद है। और स्थानीय लोग अब माता वैष्णो देवी की यात्रा शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि यात्रा शुरू होने से उनके बीते दिन फिर लौट आयेंगे।
माता वैष्णो देवी यात्रा का संचालन करने वाले श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने यात्रा शुरू करने के लिए एक SOP बना कर केंद्र सरकार की मंजूरी के लिए भेज दी है। जून 8 से धार्मिक स्थलों के उद्घाटन की घोषणा भी माता वैष्णो देवी की यात्रा की शुरूआत भी तेज हो गई है । इसके लिए मंदिर बोर्ड ने भी अंदर खाने तैयारी शुरू कर दी है । इस एपिसोड में दर्शनि देवधी के साथ बैन गंगा क्षेत्र में चेतक भवन में मेडिकल कैंप शुरू किया गया है। इसमें 50 घोड़ों और उनके ड्राइवरों के कोरोना जांच के नमूने सोमवार को लिये गये ताकि बाद में कोई खतरा न हो।

श्राइन बोर्ड मैनेजर राजेश शर्मा ने कहा – मेडिकल कैंप जारी रहेगा ताकि यात्रा के लिए सभी घोड़े के ड्राइवर और घोड़े के नमूने एकत्र किए जा सकें। शहर सहित आसपास के लगभग 450 घोड़े चालकों की पहचान वैष्णो देवी यात्रा शुरू करने के लिए की गई है, जिनकी बोर्ड सेवा लेगा। इस एपिसोड में चेतक भवन में मेडिकल कैंप का आयोजन किया गया है । यह सभी घोड़ों और उनके चालकों की जांच करेगा।
वैष्णो देवी यात्रा आरंभ होगी तो सबसे पहले सीमित संख्या यानी 5 से 6 हजार श्रद्धालुओं को ही प्रतिदिन माता के दर्शन होंगे। शुरुआत में केवल स्थानीय श्रद्धालुओं को ही दर्शन का मौका मिल सकता है। इसके लिए केवल मेडिकली फिट श्रद्धालुओं को ही मंदिर में जाने की इजाजत होगी।

Good news for the devotees of Mata Vaishno DeviOn the other hand there is good news for the devotees of Mata Vaishno…

Posted by EnewsJammu on Tuesday, June 2, 2020

दर्शन के लिए जाने से पहले श्रद्धालुओं को ऑनलाइन पंजीकरण करवाना होगा। साथ ही अपना स्वास्थ्य प्रमाण पत्र भी दिखाना होगा। इसके साथ ही मां वैष्णो देवी के सभी प्रवेश द्वार जिनमें दर्शनी ड्योडी और नया ताराकोट मार्ग प्रमुख हैं। यहां पर श्राइन बोर्ड द्वारा डॉक्टरों की तैनाती भी की जाएगी यहा वैष्णो देवी यात्रा आरंभ करने के पूर्व प्रत्येक श्रद्धालु के स्वास्थ्य का चेकअप होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = one