शहीद की बेटी गंगा ने पास की 12वीं की परीक्षा, पिता की तस्वीर के आगे खड़े होकर मारा सेल्यूट

New Delhi : फरवरी में CRPF काफिले पर हुए हमले में भारत ने अपने वीर जवान खो दिए। उन जवानों के परिवार आज भी उन्हें याद करते हैं। इसी हमले के शहीद मोहनलाल रतूड़ी की बेटी गंगा ने सीबीएसई से 12वीं पास करने के बाद कहा कि वह अब अपने पिता की इच्छा पूरी करेंगी। पिता को दिए अंतिम वचन के तहत वह सिंगिग का शौक छोड़कर डॉक्टर बनने की तैयारी में जुट गई हैं।

14 फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में दून निवासी सीआरपीएफ की 110वीं वाहिनी में एएसआई मोहनलाल रतूड़ी शहीद हो गए थे। बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी कर रही बेटी गंगा के लिए यह खबर गहरा सदमा लेकर आई। एक ओर पिता के खोने का गम तो दूसरी ओर बोर्ड परीक्षाएं सिर पर।

बावजूद इसके गंगा ने हौसला नहीं हारा। बोर्ड परीक्षाएं देने का फैसला लिया। सीबीएसई ने भी पुलवामा शहीदों के बच्चों के लिए विशेष इंतजाम किए थे। लिहाजा, बायोलॉजी, हिंदी और फिजिकल एजुकेशन की परीक्षाएं तो गंगा ने सभी छात्रों के साथ दी लेकिन फिजिक्स, केमिस्ट्री और इंगलिश की परीक्षा के लिए सीबीएसई ने बाद में इंतजाम कराया। दो मई को बोर्ड का परिणाम आया तो गंगा ने परीक्षा 68.8 प्रतिशत अंकों के साथ पास कर ली।

गंगा ने कहा कि उन्हें गायन का बेहद शौक है लेकिन पापा ने कहा था कि बेटी तू डॉक्टर बनना। जब डॉक्टर बन जाएगी तो पहली दवा मैं ही लूंगा। पिता को दिए अपने वचन के तहत अब गंगा ने डॉक्टर बनने का फैसला लिया है। इसके लिए वह कोटा में कोचिंग की तैयारी कर रही हैं।

रिजल्ट आने के बाद गंगा के चेहरे पर खुशी नहीं बल्कि पापा के न होने का गम नजर आ रहा है। सुबकते हुए बोली-अगर आज पापा होते तो कितना खुश होते। गंगा की मां सरिता की आंखों से आज भी अश्रुधारा बह रही है। मन में रंज है कि आज अगर उनके पति होते तो बच्चों की कामयाबी पर कितना खुश होते।