103 किलोमीटर लंबे मेट्रो के चौथे चरण को मिली मंजूरी, दिल्ली वासियों के लिए आई खुशखबरी

New Delhi: दिल्ली वासियों को सरकार ने 103 किलोमीटर लंबे मेट्रो के चौथे चरण को मंजूरी। बता दें कि, यह प्रोजेक्ट 9 हजार करोड़ रुपये से भी अधिक है। दिल्ली सरकार ने इस फेज को मंजूरी देने के साथ ही यह बताया की प्रोजेक्ट एगले 5 सालों में कंप्लीट होगा।इस दायरे में 79 नए स्टेशन बनाए जाएंगे।

 

103 किलोमीटर लंबा मेट्रो प्रोजेक्ट

दिल्ली सरकार ने एक बार फिर दिल्ली वासियों को मेट्रो प्रोजेक्ट की मंजूरी दे दी है। बताया जा रहा है कि, मेट्रो प्रोजेक्ट के नए फेज 4 में 103 किलोमीटर के दायरे में 79 नए स्टेशन बनाए जाएंगे। इस प्रोजेक्ट में 6 लाइने होंगी। इनमें रिठाला से नरेला, जनकपुरी वेस्ट-आरके पुरम, मुकुंदपुर- मौजपुर, इंद्रलोक- इंद्रप्रस्थ, एरोसिटी- तुगलकाबाद और लाजपत नगर-साकेत जी ब्लॉक होंगी। मेट्रो के चौथे चरण की परियोजनाओं में रिठाला से नरेला (21.73 किमी), वेस्‍ट जनकपुरी से आर के आश्रम (28.92 किमी), मुकुंदपुर से मौजपुर (12.54 किमी), इंद्रलोक से इंद्रप्रस्‍थ (12.58 किमी), तुगलकाबाद से ऐरो सिटी (20.20 किमी) और लाजपत नगर से साकेत जी ब्‍लॉक (7.96 किमी) शामिल हैं। जाहिर है दिल्ली मेट्रो प्रोजेक्ट देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी रेल परियोजनाओं में शामिल है और अब इस लंबे प्रोजेक्ट के साथ ही दिल्ली वासियों को भी खास सौगात मिलने जा रही है।

45,000 करोड़ का खर्च, दिल्ली सरकार देगी 9 हजार करोड़

बता दें कि, दिल्ली सरकार ने आज एक नए मेट्रो प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है। इस प्रोजेक्ट में करीब 80 नए स्टेशन बनने हैं जो 103 किलोमीटर का लंबा एरिया कवर करेगा। मनीष सिसोदिया ने कहा कि इससे राष्ट्रीय राजधानी में सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा मिलेगा. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह मंजूरी दी गई। सिसोदिया ने कैबिनेट के फैसले के बारे में कहा कि सरकार इस परियोजना के तहत निर्माण कार्य के लिए 9,707 करोड़ रुपये की अपनी हिस्सेदारी देगी। इस परियोजना पर करीब 45,000 करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान है। लेकिन इसमें करीब 9 हजार करोड़ दिल्ली सरकार देगी और बाकी पैसे केंद्र सरकार पास करेगी।