मसीहा सम्मानित- बिना स्वार्थ गरीबों का दुख-दर्द बांटने के लिये सोनू को अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार

New Delhi : कोरोना काल में भारत के गरीबों, मजलूमों और प्रवासी मजदूरों के लिये मसीहा बने बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद के सेवा धर्म को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनके काम को रिकोगनाइज किया गया है। यूनाइटेड नेशन्स डेवलपमेंट प्रोग्राम ने उन्हें पुरस्कृत करने का ऐलान किया है। सोनू सूद को यह अवार्ड हर भारतीय की जीत है। सोनू सूद ने समाज के लिये जो किया है, वो अपने आप में विशिष्ट है। उन्होंने साबित कर दिखाया है कि अगर मन में लगन हो तो कुछ भी किया जा सकता है। हजारों लोगों की उन्होंने मदद की और चहुंओर उनके जयकारे हैं।

कोराना काल में प्रवासी मजदूरों को घर तक पहुंचाने से शुरू सोनू सूद की समाज सेवा छह महीने बाद भी अनवरत जारी है। अब सोनू सूद गरीब बच्चों को पढ़ने के लिये मोबाइल दे रहे हैं तो किसी का इलाज करवा रहे हैं। कोरोना की वजह से बेरोजगार हो गये लोगों की मदद के लिये वे रोजगार उपलब्ध करा रहे हैं। सोनू सूद को संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रतिष्ठित एसडीजी स्पेशल ह्यूमेनिटेरियन एक्शन अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। इस अनाउंसमेंट के बाद कई प्रख्यात लोगों ने सोनू सूद को सोशल मीडिया ब्लॉगिंग साइट ट‍्विटर पर बधाई दी है।
शोभा डे ने उनको बधाई देते हुये ट‍्वीट किया- हमें अपने रीयल सुपरस्टार सोनू सूद पर गर्व है। संयुक्त राष्ट्र उन्हें मानवीय कार्यों के लिये सम्मानित करने की घोषणा की है। जिसके जवाब में सोनू सूद ने उनको धन्यवाद दिया है। बता दें कि विश्‍व भर की चुनिंदा शख्सियतों को यह पुरस्‍कार प्रदान किया गया है। बिना किसी स्‍वार्थ के गरीबों के दुख दर्द दूर करने के ल‍िये सोनू सूद को इस पुरस्‍कार के लिये चुना गया है। 29 सितंबर को एक वर्चुअल कार्यक्रम में उन्‍हें यह पुरस्‍कार प्रदान किया गया। इस सम्‍मान को प्राप्‍त करते हुए एक्‍टर सोनू सूद ने खुशी जताई और कहा- मैं अपने देशवासियों के जो कुछ कर सका और कर रहा हूं, वो बहुत छोटा सा हिस्‍सा है।

सोनू सूद लगातार गरीबों की मदद कर रहे हैं। उन्होंने आज ही बिहार एक मजदूर, जिसका लॉकडाउन में एक्सीडेंट की वजह से पैर खराब हो गया था, का ऑपरेशन करवाया है। इसके अलावा उन्‍होंने बिहार के एक किसान को भैंस, एक परिवार को ट्रैक्टर दिया था, वहीं गाजियाबाद की एक युवती का इलाज कराया। पढ़ाई के लिये बच्चों को मोबाइल तो लगभग रोज ही दे रहे हैं और गरीब बेरोजगारों के लिये रोजगार भी मुहैया करवा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + four =