मायावती बोलीं- योगी को मठ में बिठाओ या फिर राममंदिर निर्माण में लगाओ, यूपी में राष्ट्रपति शासन हो

New Delhi : हाथरस प्रकरण को लेकर पूरे देश में गुस्सा है। खासकर परसों देर रात जबरन पीडिता का अंतिम क्रियाकर्म किये जाने के बाद से। पुलिस और प्रशासन ने पीड़िता के अंतिम दर्शन भी नहीं होने दिये परिजनों को। खुद ही पेट्रोल डालकर सारा काम कर दिया। अब इस मामले में बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में तत्काल राष्ट्रपति शासन कायम करने की जरूरत है। योगी आदित्यनाथ को गोरखपुर मठ भेजा जाये या फिर राम मंदिर निर्माण कराने की जवाबदेही दी जाये। उत्तर प्रदेश का राजकाज उनसे नहीं संभल रहा। कांग्रेस और सपा ने भी विरोध तेज कर दिया है।

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने अपना बयान ट‍्वीट कर कहा है कि हाथरस की घटना से साफ हो गया है कि अब उत्तर प्रदेश को संभाल पाना योगी सरकार के बूते की बात नहीं रह गई है। दलितों पर अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं। उन्होंने कल भी ट‍्वीट किया- अगर माननीय सुप्रीम कोर्ट इस संगीन प्रकरण का स्वयं ही संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करे तो यह बेहतर होगा, वरना इस जघन्य मामले में यूपी सरकार व पुलिस के रवैये से ऐसा कतई नहीं लगता है कि पीड़िता के परिवार को न्याय व दोषियों को कड़ी सजा मिल पायेगी।
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट‍्वीट किया- हाथरस में भाजपा सरकार सत्ता पक्ष के नेताओं के लिये कोई पाबंदी नहीं लगा रही है लेकिन जनता और विपक्ष को धारा 144 के नाम से बाधित कर रही है। पीड़ित के गाँव-क्षेत्र में सपा के नेता व कार्यकर्ता दो दिनों से अघोषित बंदी में फंसे हुये हैं।
इधर हाथरस प्रकरण में आज गुरुवार को उस समय माहौल और गरम हो गया जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ग्रेटर नोएडा में उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद पैदल ही हाथरस जाने लगे। पुलिस ने जब उन्हें रोका और वे नहीं रुके तो धक्का दिया गया जिससे राहुल गांधी जमीन पर गिर पड़े। इसके बाद बहुत तमाशा हुआ। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस घटना के बाद राहुल गांधी ने कहा- मैं पूछना चाहता हूं, क्या इस देश में केवल मोदी जी ही चल सकते हैं? उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस में 31 अक्टूबर तक धारा 144 प्रभावी कर दिया है।
आज राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस के पीड़ित परिजनों से मिलने के लिये जा रहे थे। इसी बीच ग्रेटर नोएडा में उनके काफिले को रोक दिया गया। जब उनके काफिले को रोका गया तो राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पैदल ही हाथरस के लिये रवाना हो गये। यहां से हाथरस की दूरी 142 किलोमीटर थी। राहुल और प्रियंका के पैदल ही हाथरस के लिये रवाना होने की खबर फैलते ही प्रशासन के हाथ पांव फूल गये। प्रशासन ने राहुल गांधी को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्का मुक्की और जोर आजमाइश होने लगी। इसी क्रम में राहुल गांधी जमीन पर गिर गये।

राहुल गांधी ने मौजूद पुलिसवालों से पूछा कि आप मुझे आगे जाने से क्यों रोक रहे हैं तो उन्हें जानकारी दी गई कि हाथरस में धारा 144 प्रभावी कर दी गई है। इस पर राहुल अकेले जाने की जिद करने लगे। उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस में पीड़ितों के गांव की भी बैरीकेडिंग करा दी है। गांव में जबरदस्त सुरक्षा के इंतजामात हैं। पीड़ितों को किसी से नहीं मिलने दिया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ninety one − = eighty four