बिहार का लाल हो गया शहीद- गांव में मातम, पत्नी बार-बार हो रही है बेहोश, पिता रिटायर्ड जवान

New Delhi : गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ झड़प में शहीद हुये कर्नल बी. संतोष बाबू सोमवार को चीनी पक्ष से हुई बातचीत का नेतृत्व कर रहे थे। और सोमवार को ही देर रात वह शहीद हो गये। मूलत: तेलंगाना के सूर्यपत जिले के निवासी कर्नल संतोष बाबू 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग अफसर भी थे। शहीद कर्नल अपने घर के इकलौते चिराग थे लेकिन उनकी मां का जज्बा देखिये। उनकी मां मंजुला ने कहा – मैं दुखी हूं कि मेरा इकलौता बेटा चल गया लेकिन दूसरे ही पल गर्व भी होता है कि वो अपनी देश की शान-ओ-शौकत के लिये न्यौछावर हो गया।
इधर बिहार के एक लाल भी इसमें शहीद हो गये। शहीद जवान सुनील कुमार (38) छपरा जिले के दीघरा परसा गांव के थे। शाम साढ़े पांच बजे पत्नी मेनका राय को अधिकारियों ने फोन कर घटना की जानकारी दी। पति की शहादत की खबर सुन पत्नी फूट-फूटकर रोने लगी। पूरा गांव घर पर इकट्ठा हो गया। जवान की शहादत पर पूरे गांव में मातम पसरा है।

शरीद जवान के पिता सुखदेव राय 12 साल पहले थल सेना से रिटायर हुए थे और अभी पश्चिम बंगाल में दूसरी सर्विस कर रहे हैं। सुनील दो भाइयों में बड़े थे। तीन साल की एक बेटी है। मां मोगली देवी का रो-रोकर बुरा हाल है।
इधर कर्नल की मां ने कहा- मेरी बहू वर्तमान में दिल्ली में रह रही है। उसने ही मुझे फोन करके सूचना दी। वह कर्नल संतोष बाबू ही थे। एक पल में, मैं बहुत दुखी हूं। दूसरे पल में, मुझे खुशी है कि मेरे बेटे ने देश के लिए अपना जीवन न्यौछावर किया। माँ के रूप में, मैं व्याकुल हूँ, मैंने उसे खो दिया।
बता दें कर्नल तनाव कम करने को लेकर हुई कई बैठकों का नेतृत्व कर चुके थे। सेना से जुड़े सूत्रों ने कहा – सोमवार की रात जब चीनी सेना तय कार्यक्रम के अनुसार पीछे नहीं हटी तो कर्नल बाबू स्वयं उनसे बात करने गये थे। इसी दौरान चीनी पक्ष की तरफ से उनके साथ हाथापाई की गई, जिसके बाद भारतीय सैनिकों ने भी जवाब दिया। इससे दोनों तरफ से झड़प शुरू हो गई। सेना की तरफ से आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन मंगलवार देर रात तक कुछ सैनिक लापता थे, जिनकी तलाश की जा रही थी।

कर्नल संतोष बाबू के परिवार में उनके माता-पिता, पत्नी के अलावा एक बेटी और बेटा है। इस झड़प में 16 बिहार रेजिमेंट के दो सैनिक भी घायल हुये हैं, जिनमें एक हवलदार के पलानी तथा हवलदार सुनील कुमार भी शामिल हैं। इस झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने की खबर है। साथ ही साथ 43 के करीब चीनी सैनिक भी या तो मारे गए हैं, या फिर घायल हैं। उन्हें ले जाने के लिए एलएसी पर चीनी चॉपर भी देखे गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

+ forty five = fifty three