16 साल पुराने वैवाहिक जोड़े को प्रमाणपत्र के लिए दोबारा शादी के लिए पूछा, चार अधिकारी निलंबित

New Delhi: केरल के लोक निर्माण मंत्री जी सुधाकरन ने गुरुवार को पंजीकरण विभाग के चार अधिकारियों निलंबित कर दिया। इन चार अधिकारियों ने एक व्यक्ति से पिछले सप्ताह एक 16 साल पुराने वैवाहिक जोड़े को दौबारा शादी करने को कहा क्योकि उनरे पास वैध विवाह प्रमाणपत्र नहीं था। कोझिकोड (उत्तर केरल) के मुक्कम के मूल निवासी पी। मधुसूदनन ने विवाह प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए मुक्कम में सब-रजिस्ट्रार के कार्यालय से संपर्क किया था। उनकी शादी 16 साल पहले स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत हुई थी।

आमतौर पर इस तरह का प्रमाण पत्र एक आवेदन देने के बाद उसी दिन उपलब्ध कराया जाता है लेकिन, उसे कार्यालय के कई चक्कर लगाने को मजबूर किया गया। जब मधुसूदनन ने विरोध किया तो अधिकारियों ने उनका मज़ाक उड़ाया और उन्हें तुरंत प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए फिर से शादी करने के लिए कहा। उसने अपने एक दोस्त को अपनी दुर्दशा के बारे में बताया। उनके दोस्त ने उन्हें फेसबुक पर अपना अनुभव पोस्ट करने की सलाह दी। जब उनका पोस्ट वायरल हो रहा था, तो अधिकारियों ने यह कहते हुए स्थिति से बाहर निकलने की कोशिश की कि यह सिर्फ एक मजाक था लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

उन्होंने 27 फरवरी, 2003 को विशेष विवाह अधिनियम के तहत शादी की थी। उन्हें विवाह प्रमाण पत्र की सत्यापित प्रति की आवश्यकता थी। हालांकि, अधिकारी पुरानी फाइलों की जांच करने को तैयार नहीं थे। उन्होंने उनका मजाक उड़ाया और उन्हें कार्यालय में कई चक्र लगाने के लिए मजबूर किया।

मंत्री ने कहा, “मैंने अपने अधिकारियों से इसकी जाँच करने के लिए कहा और पाया कि उनकी शिकायतें वास्तविक थीं। मैंने तुरंत दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की। ऐसे अधिकारियों को सरकारी सेवा में काम करने के लिए सक्षम नहीं था। हम इस तरह के व्यवहार को बर्दाश्त नहीं कर सकते। मैंने अधिकारियों से यह भी जाँचने के लिए कहा है कि क्या कोई अन्य शिकायतें इन अधिकारियों के खिलाफ लंबित हैं।”