श’हीद दिवस रैली में बोलीं ममता- बैलेट पेपर वापस लाओ और देश को बचाओ

NEW DELHI: ममता बनर्जी ने रविवार को श’हीद दिवस रैली में कहा कि देश में लोकतंत्र बहाल करने की जरूरत है। चुनाव ईवीएम नहीं बल्कि बैलेट से कराए जाने चाहिए।

तृणमूल कांग्रेस हर साल 21 जुलाई को कोलकाता में श’हीद दिवस रैली कराती है। 1993 में इसी दिन पश्चिम बंगाल की तत्कालीन कम्युनिस्ट सरकार ने प्रदर्शनकारियों पर गो’ली चलाने का आदेश दिया था। इसमें 13 यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मौ’त हो गई थी। ममता उस वक्त युवा कांग्रेस की नेता थीं।

ममता ने कहा- 21 जुलाई श’हीद दिवस ऐतिहासिक है। 26 साल पहले आज के ही दिन 13 युवा कार्यकर्ताओं की पुलिस फा’यरिंग में मौ’त हो गई थी। तब से इस दिन को हम श’हीद दिवस के रूप में मनाते हैं। मैं उन सभी शहीदों को श्रद्धांजलि देती हूं, जो 34 साल के लेफ्ट के शासनकाल में मा’रे गए।

बंगाल की मुख्यमंत्री ने ईवीएम पर भी नि’शाना साधा। उन्होंने कहा, 21 जुलाई 1993 को प्रदर्शनकारियों की मांग थी- आईडी कार्ड नहीं तो वोट नहीं। इस साल हम लोकतंत्र बहाली की मांग करते हैं। मशीन नहीं, बैलेट पेपर वापस लाओ। हम कसम खाते हैं कि लोकतंत्र की बहाली के लिए संघर्ष करेंगे।