महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष ने कोर्ट के फैसले का किया स्वागत, कहा- फ्लोर टेस्ट के लिए हम तैयार

New Delhi: एनसीपी के अजित पवार संग मिलकर भाजपा के सरकार बनाने के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका पर आज फैसला सुना दिया गया। कोर्ट ने भाजपा को विधानसभा में कल तक फ्लोर टेस्ट करने का आदेश दिया है। इस आदेश का राज्य भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने स्वागत किया है। साथ ही उन्होंने दावा किया है कि उनकी पार्टी कल होने वाले बहुमत परीक्षण के लिए तैयार है। वो इसमें खरा उतरेगी।

वहीं विपक्षी पार्टी पूरा विश्वास जता रही हैं कि भाजपा फ्लोर टेस्ट में नहीं टिक पाएगी। कोर्ट के इस आदेश पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि सत्य की जीत हुई। कोर्ट ने 30 घंटे दिए हैं, हम 30 मिनट में बहुमत साबित कर सकते हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने आज आदेश दिया 27 नवंबर को शाम 5 बजे से पहले महाराष्ट्र विधानसभा में एक फ्लोर टेस्ट आयोजित किया जाए। शीर्ष अदालत ने फ्लोर टेस्ट का सीधा प्रसारण करने का भी आदेश दिया है। न्यायमूर्ति रमण की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों वाली पीठ ने शनिवार को तड़के महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री फडणवीस और एनसीपी के अजीत पवार को उप-मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाने के फैसले को चुनौती देने वाली तीन पक्षों की संयुक्त याचिका पर यह आदेश दिया है।

मुंबई के होटल ग्रैंड हयात में सोमवार रात को शिवसेना- कांग्रेस और एनसीपी विधायक इकट्ठा हुए और इस दौरान विधायकों ने एकजुटता दिखाते हुए पार्टी के प्रति ईमानदार रहने और भाजपा का समर्थन न करने की कसम खाई। शक्ति प्रदर्शन में 162 विधायकों में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, उनकी बेटी सुप्रिया सुले, छगन भुजबल, शिवसेना अध्यक्ष उध्दव ठाकरे, बेटे आदित्य ठाकरे, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, अशोक चव्हाण जैसे नेता मौजूद थे। इस दौरान शरद पवार ने चुनौतीभरे लहजे में कहा था कि यह महाराष्ट्र है, मणिपुर और गोवा नहीं। फ्लोर टेस्ट के दिन मैं 162 से ज्यादा विधायक लेकर आऊंगा।