यहां शिवलिंग से हर वक्त लिपटे रहते हैं नाग..दर्शन करने वाले की हर मनोकामना होती है पूरी

New Delhi : राजस्थान के भरतपुर में भगवान भोले के श्मशानेश्वर अवतार की बेहद मान्यता है और इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां भगवान भोले के सिर पर नाग विराजमान रहते हैं। इस मंदिर में जब आप एक साथ इतने नागों को देखेंगे तो कुछ देर के लिए आपकी हिम्मत जवाब दे जाएगी और शायद आप अंदर जाने से भी डरने लगेंगे।

श्मशानेश्वर के माथे पर यूं विराजमान नागों को देखकर आपको आश्चर्य हो सकता है लेकिन वहां के स्थानीय लोगों के लिए यह अपनी मनोकामना पूर्ण करने और भगवान शंकर का आशिर्वाद लेने का सबसे बड़ा जरिया है। स्थानीय लोगों के मुताबिक श्मशानेश्वर महादेव मंदिर काफी प्राचीन है और हर दिन सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु यहां अपनी मनोकामना पूर्ण करने और भगवान भोले के दर्शन के लिए जुटते हैं ।

इस मंदिर की एक और खासियत है। हर साल गणेश चतुर्थी के मौके पर शिवलिंग पर जीवित सांपों की झांकी सजाई जाती है जो काफी मनमोहक होती है और इस देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जुटती है। यहां हर साल गणेश चतुर्थी के मौके पर सपेरों को बुलाकर शिवलिंग पर काले नागों की झांकी सजाई जाती है। इन जहरीले काले नागों में से कुछ शिवलिंग पर बैठते है तो कुछ शिवलिंग के चारों तरफ कब्ज़ा कर लेते है जिससे वहां नजारा काफी भक्तिमय हो जाता है।

मान्यताओं के अनुसार श्मशानेश्वर महादेव मंदिर में स्थित शिवलिंग काफी प्राचीन है और कहा जाता है की यह शिवलिंग खुद ही जमीन से निकला था। गणेश चतुर्थी के मौके पर शिवलिंग को सजाया जाता है और दुग्धभिषेक किया जाता है। इसके बाद ही वहां श्रद्दालुओं को दर्शन और पूजा की अनुमति दी जाती है।