फिलहाल नहीं होगी क्रिकेटर मो.शमी की गि’रफ्ता’री,अदालत ने लगाई रोक

क्रिकेटर मोहम्मद शमी पर लगे घरेलू हिं’सा के मामले में फिलहाल उनकी गि’र’फ्ता’री नहीं होगी। अलीपुर जिला सत्र न्यायालय ने उनकी गि’र’फ्ता’री पर रोक लगा दी है। 2 सितंबर को निचली अदालत ने शमी को 15 दिन के अंदर स’रें’डर करने और ज’मान’त की अर्जी देने के आदेश दिए थे। जिसके बाद शमी ने फैसले को चु’नौ’ती दी थी।

क्या था मामला ?
माध्यम गति के तेज गेंदवाज मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने 2018 में मोहम्मद शमी पर घरेलू हिं’सा, रे’प, मा’रपी’ट और ह’त्या करने की कोशिश जैसे गं’भी’र आ’रोप लगाये थे। शमी का त’ला’क के’स कोलकाता कोर्ट में चल रहा है। कोर्ट ने कोलकाता पुलिस को आदेश दिया था कि मोहम्मद शमी अगर 15 दिन में कोर्ट में स’रेंड’र नहीं करते हैं तो उन्हें गि’रफ्ता’र कर लिया जाए।

मोहम्मद शमी की पत्नी उनपर मैच फि’क्सिं’ग करने तक का आरो’प लगा चुकीं हैं। हालाँकि वे अब तक इसे साबित नहीं कर पाई हैं। मोहम्मद शमी भी अपनी पत्नी के आ’रोपों को सिरे से खा’रिज करते आए हैं। वर्ष 2018 में हसीन जहां ने अपने पति पर कई सं’गी’न आ’रो’प लगाए थे। उन्होंने कहा था कि वह कई लड़कियों से चैट करते हैं और वि’रो’ध करने पर मुझसे मा’र-पी’ट भी करते हैं। हसीन ने वाट्सऐप के स्क्रीन शॉट्स शेयर किए गए थे।

हसीन जहां की शिकायत के बाद कोलकाता पुलिस ने शमी पर आ’ईपी’सी की सात धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। इन आ’रोपों गं’भी’रता से लेते हुए BCCI ने शमी का सालाना करार रद्द कर दिया था। हालांकि, बाद में बोर्ड ने उन्हें क्लीन चिट देते हुए बी-ग्रेड में रखा। बाद में जब शमी ने आईपीएल में धमाल मचाया तो उन्हें वर्ल्ड कप में भी जगह मिल गया।

kaushlendra

सामाजिक और राजनीतिक विषयों पर लिखने में दिलचस्पी है।गांधी जी का फैन हूँ।समाज में जागरुकता लाना उद्देश्य है।पत्रकारिता मेरा प्रोफेशन है,जुनून है और प्यार भी है।
kaushlendra