लुधियाना सिटी सेंटर घोटाला: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को मिली क्लीन चिट

New Delhi: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को बहुचर्चित लुधियाना सिटी संटर घोटाले में जिला अदालत ने क्लीन चिट दे दी है। इसी के साथ उन्हें इस मामले से जुड़े सभी आरोपों से बरी कर दिया गया है। लुधियाना सिटी सेंटर मामला 2006 में सामने आया था। जिसमें 1144 करोड़ रुपये के घोटाला होने की बात सामने आई थी। उस वक्त कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री थे।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मामले में क्लीन चिट मिलने के बाद कहा, “हमारी याचिका की जीत हुई है। हमारे खिलाफ लगे आरोपों को खारिज कर दिया गया है। हमने 13 साल से इस मामले का सामना किया है। मामला आज आखिरकार हमारे पक्ष में आ गया है। पहले दिन से हमें न्यायपालिका पर भरोसा था। हमें पता था कि यह मामला एक झूठा मामला था।”

मुख्यमंत्री के अलावा उनके बेटे रणइंदर सिंह, उनके दामाद रमिंदर सिंह और अन्य 29 लोगो को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया था जिन्हें बरी कर दिया गया है।

सिंह ने ट्विटर पर यह भी लिखा: ” आज सत्य की जीत हुई है, अदालत ने लुधियाना सिटी सेंटर मामले में मेरे और अन्य आरोपियों के खिलाफ दोषपूर्ण और राजनीतिक रूप से प्रेरित आरोपों को खारिज कर दिया है। हमें कानून पर पूरा भरोसा था। इस जीत के लिए वाहे गुरुजी को धन्यवाद। “

अगस्त 2017 में, कैप्टन अमरिंदर सिंह और अन्य सभी 30 आरोपियों को मामले में पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने क्लीन चिट दे दी थी। राज्य सतर्कता ब्यूरो ने मार्च 2007 में इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की थी।