प्रेम प्रसंग, झूठी शादी, फिर गैंगरे’प… आवाज उठाई तो ज’ला दिया-ऐसी है उन्नाव की पूरी कहानी

New Delhi : उन्नाव से करीब 50 किमी दूर बिहार थाना क्षेत्र में पड़ने वाले हिन्दूनगर गांव में शनिवार दिनभर लोगों का हुजूम था। 90% झुलसने के बाद दम तोड़ चुकी दुष्कर्म पीड़ित का शव शनिवार रात को दिल्ली से उसके गांव पहुंचा।

गांव में घुसते ही पुलिस, मीडिया और नेताओं की दर्जनों गाड़ियां खड़ी दिखाई देती हैं। लगभग 100 मीटर दूर पी’ड़ित का फूस से ढंका हुआ मिट्टी का घर है। घर के बाहर 50 से ज्यादा पुलिस वाले खड़े हैं। अंदर एक-एक कर मीडिया वाले पी’ड़ित के पिता से बात कर रहे हैं। पिता थके-थके से लग रहे हैं, फिर भी पानी पी-पीकर मीडिया के सवालों का जवाब दे रहे हैं। सिर पर आंचल डाले बहू उनसे कह रही है कि तबीयत खराब हो जाएगी आप कमरे में चल कर आराम कर लीजिए। पीड़ित के पिता कहते हैं- दो दिन से खाना-पीना हराम है। अब तो बेटी भी नहीं रही।

पिता कहते हैं कि हमारे यहां अब नेता आ रहे हैं, मीडिया वाले आ रहे हैं, लेकिन नही आएगी तो सिर्फ मेरी बेटी। पिछले दो दिनों से मैं उसको टीवी और इंटरनेट पर देख रहा हूं। पिता कहते हैं कि या तो हत्यारों को फांसी दो या हैदराबाद की तरह उनका एनका’उंटर कर दो। ये सब न हो पाए, तो हमारे घर पर ब’म गिरा दो, जिससे हम ही खत्म हो जाएं। मेरे पास अब कोर्ट-कचहरी दौड़ने की ताकत नहीं बची।

पीड़ित के पिता ने कहा, ”हम लोगों की कोई पुरानी दुश्मनी नहीं थी। हम पहले प्रधान के समर्थक ही थे। तन, मन, धन से उनके साथ रहते थे। उनके जरिए ही हमें कई योजनाओं का जल्दी फायदा भी मिला, लेकिन जब से यह मामला सामने आया, तब से संबंध खराब हुए। दबंग होने की वजह से प्रधान परिवार ने हमें दबाने की कोशिश की। मेरी बेटी और उसकी मां को मा’रा-पीटा भी। अब मेरी बे’टी को जला दिया।”

पिता के मुताबिक, 2017 में शिवम का घर आना-जाना शुरू हुआ। गांव का लड़का होने के कारण किसी को उसके आने-जाने से कोई आपत्ति नहीं हुई। लेकिन, जब बेटी और उसके संबंधों के बारे में पता चला, तो शिवम के परिवार ने घर आकर द’बंगई दिखाई। इसके बाद भी शिवम ने बेटी से संबंध खत्म नहीं किए। दिसंबर 2017 में वो मेरी बेटी को भगा ले गया। बाद में पता चला कि बेटी को रायबरेली लेकर गया है। उसने बेटी को गुमराह करने के लिए गलत कागजात बनवा कर शादी का झांसा दिया और उससे रे’प करता रहा। परिवार के दबाव में करीब दो महीने बाद गांव लौटकर उसने मेरी बेटी से रिश्ता खत्म कर दिया। इस दौरान उसने मोबाइल से बेटी का वीडियो बना लिया था। बदनामी के कारण मेरी बेटी अपनी बुआ के यहां रायबरेली रहने चली गई। पिछले साल इसी दिसंबर में शिवम अपने रिश्तेदार शुभम के साथ रायबरेली पहुंचा और मंदिर में शादी का झांसा देकर उसे बुलाया। बेटी ने बताया था कि उसने वहां शादी तो नहीं की, लेकिन उसके साथ दोनों ने हथियार के दम पर दु’ष्कर्म किया।

पिता ने बताया- जब धोखा मिला, तो बेटी ने मामला दर्ज करवाने के लिए भागदौड़ करनी शुरू की। हम थाने के चक्कर काटते रहे, लेकिन कोई मुकदमा नहीं दर्ज हुआ। फिर कोर्ट के आदेश पर मार्च 2019 में मुकदमा दर्ज हुआ। लड़कों की गिरफ्तारी के लिए पैरवी करते रहे, तब कहीं सितंबर में शिवम जेल गया, लेकिन समय से पहले उसे जमानत मिल गई। जमानत मिलते ही सबने मिलकर मेरी बेटी को मा’र दिया।