लता मंगेश्कर ने धोनी से कहा-देश को आपकी जरूरत है माही, रिटायरमेंट की सोचना भी मत

New Delhi : कल टीम इंडिया तो हार गई लेकिन धोनी ने दिल जीत लिया। धोनी ने पूरी कोशिश की टीम इंडिया को फाइनल तक पहुंचाने की। महेंद्र सिंह धोनी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में अर्धशतकीय पारी खेली और रवींद्र जडेजा के साथ मिलकर टीम के लिए 106 रन जोड़े।

अब भारत रत्न लता मंगेश्कर ने धोनी से अपील की है कि वो संन्यास ना लें। देश की टीम को उनकी जरूरत है। रिटायरमेंट की सोचना भी मत। बता दें कि कल से धोनी के रिटायरमेंट को लेकर खबरें चल रही हैं। जब धोनी मैदान पर बल्लेबाजी करने आए तो भारत 92 रनों पर अपने 6 विकेट गंवा चुका था। ये धोनी ही थे जिसने भारत की उम्मीदें फिर से जिंदा कर दीं। धोनी और जडेजा लक्ष्य के लगभग करीब ही पहुंच रहे थे लेकिन स्कोरबोर्ड का दबाव उनके लिए नुकसानदायक साबित हुआ।

महेंद्र सिंह धोनी पर क्रिकेट जगत के कुछ लोग फिर से सवाल खड़े कर रहे हैं कि डेथ ओवरों में उनके चेज करने का अंदाज सही नहीं था। धोनी सिंगल्स लेकर खुश थे जबकि 59 गेंदों पर 77 रनों की पारी खेलने वाले जडेजा को स्ट्राइक का मौका दे रहे थे। जब धोनी की आलोचना के बारे में न्यूजीलैंड कप्तान केन विलियम्सन से सवाल पूछा गया तो उन्होंने धोनी का बचाव किया।

केन विलियमस ने कहा, वह न्यूजीलैंड की तरफ से नहीं खेल सकते हैं। क्या वह अपनी राष्ट्रीयता बदल रहे हैं? अगर ऐसा है तो हम उनके अपनी टीम में चयन करने को तैयार हैं। विलियमसन ने धोनी की तारीफों के पुल बांध दिए। उन्होंने कहा, वह वर्ल्ड क्लास खिलाड़ी हैं। जब उनसे पूछा गया कि अगर वह भारतीय टीम के कप्तान होते तो धोनी को लेकर उनका क्या नजरिया होता? कीवी टीम के कैप्टन ने कहा, उनका अनुभव इस तरह के खेल और मौकों पर बहुत ही अहम होता है। पूरे वर्ल्ड कप के दौरान उनका योगदान अहम रहा। उन्होंने जडेजा के साथ जो साझेदारी की और दोनों टीम के बाकी खिलाड़ियों से बेहतर जिस तरीके से गेंद को हिट किया, वह बहुत ही खास था। वह वर्ल्ड क्लास क्रिकेटर हैं।

केन विलियमसन ने धोनी के 49वें ओवर में रन आउट को निर्णायक पल करार दिया। धोनी को मार्टिन गुप्टिल ने बेहतरीन डायरेक्ट थ्रो से रन आउट कर दिया था। विलियमसन ने कहा, यह बहुत ही मुश्किल पिच थी इसलिए कुछ भी कहना आसान नहीं था। वह रन आउट बहुत ही महत्वपूर्ण था क्योंकि हमने धोनी को कई बार ऐसी ही परिस्थियों में खेल को अपने हक में मोड़ते देखा है।