लक्ष्मी विलास बैंक के डायरेक्टरों पर 790 करोड़ घोटाले का आरोप, बैंक शेयरों में आई भारी गिरावट

New Delhi : देश के बहुत से बैंक जहां घाटे और फ्रॉड के केसों से जूझ रहे हैं वहीं इसी लिस्ट में अब एक और बैंक का नाम जुड़ गया है। इसी बीच भारत के प्रमुख निजी बैंकों में से एक लक्ष्मी विलास बैंक पर 790 करोड़ रुपए के घोटाले की खबरें सामने आ रही हैं। वैसे कंपनी इल्जामों को खारिज कर रही है लेकिन जांच के बाद ही कुछ निर्णय लिया जा सकेगा।

वित्तीय सेवा कंपनी रेलिगेयर फिनवेस्ट ने बैंक के निदेशकों के खिलाफ दिल्ली पुलिस की अपराधिक शाखा में कंप्लेंट दर्ज करवाई है। रेलिगेयर ने एफआईआर में पुलिस को बताया कि उसने 790 करोड़ की एफडी बैंक में की थी, जिसे बैंक ने बहुत ही चालाकी से गबन किया है। पुलिस ने उनकी कंप्लेंट रजिस्टर कर बैंक के खिलाफ धोखाधड़ी, विश्वासघात और साजिश का मुकदमा दर्ज कर दिया है।

धोखाधड़ी की खबर आते ही बैंक के शेयर में भारी गिरावट आई है। शुक्रवार को बैंक के 5 प्रतिशत शेयर नीचे लुढ़क गए। अभी तक ये साफ नहीं हो पाया है कि पुलिस ने बैंक के कितने निदेशकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। लक्ष्मी विलास बैंक को जल्द ही इंडिया बुल्स खरीदने वाली थी । इस जांच की वजह से उनके काम में रुकावट आ सकती है। वैसे अभी तक इंडिया बुल्स कोई बयान जारी नहीं किया है।

बेरोजगारी पर ब्रिटिश इन्वेस्टर की टिप्पणी पर झुंझलाए झुनझुनवाला,कहा-‘पाक जाकर कीजिए इन्वेस्ट’

इस मामले पर पलटवार करते ही बैंक ने कहा कि रेलिगेयर की ये सोची समझी साजिश है। रेलिगेयर अपनी धोखाधड़ी को कर्मचारियों से छुपाने के लिए सबको गुमराह कर रही है।बैंक ने जांच एजेंसियों का सहयोग करने का वादा किया है।