मध्यप्रदेश के उसैन बोल्ट रामेश्वर को किरेन रिजिजू ने दिया मदद का आश्वासन

New Delhi : मध्यप्रदेश में शिवपुरी जिले के धावक रामेश्वर गुर्जर की 11 सेकंड में 100 मीटर नंगे पैर दौड़ने की प्रतिभा सामने आने के बाद खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने मदद करने का आश्वासन दिया है। मध्य प्रदेश के उसैन बोल्ट के नाम से पहचाने जाने वाले रामेश्वर को एथलेटिक्स अकादमी में दाखिल करवाने का इंतेज़ाम किया है जिसके बाद रामेश्वर भोपाल की भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) में रिपोर्ट करने को कहा है।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के एक ट्वीट का जवाब देते हुए, जिसमें उन्होंने खेल मंत्री से रामेश्वर की मदद करने का आग्रह किया था, किरेन रिजिजू ने उभरते हुये एथलीट को हर संभव मदद करने आश्वासन दिया है।

रिजिजू के बाद, SAI ने ट्वीट किया: “खेल मंत्री ने रामेश्वर को हर संभव मदद और समर्थन का आश्वासन दिया है। उन्हें भोपाल के SAI केंद्र में बुलाया गया है और उन्हें हर सहायता और सुविधा दी जाएगी।”

शिवराज सिंह चौहान ने रामेश्वर के वीडियो को ट्वीटर पर शेयर करते हुये लिखा था “भारत में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है और अगर उन्हें मौका दिया जाता है, तो वे इतिहास रच सकते हैं। मैं खेल मंत्री किरेन रिजिजू से इस युवा एथलीट की मदद करने का आग्रह करता हूं ताकि वह अपने कौशल में सुधार कर सकें।”

मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के 19 वर्षीय धावक रामेश्वर तब सुर्खियों में आये जब 11 सेकंड के भीतर 100 मीटर नंगे पैर दौड़ने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो वायरल होने के बाद कई लोगों ने उसकी इस प्रतिभा को तारीफ़ की। मध्य प्रदेश के खेल मंत्री जितेंद्र पटवारी ने भी रामेश्वर को बेहतर समर्थन और प्रशिक्षण सुविधा का आश्वासन दिया है।

जीतू पटवारी ने कहा “अगर इस तरह की प्रतिभा को बेहतर प्रशिक्षण सुविधाएं और जूते मिलते हैं, तो वह सिर्फ नौ सेकंड में 100 मीटर दौड़ सकता है।”

किसान के परिवार से आने वाले रामेश्वर ने 10 वीं कक्षा तक पढ़ाई की है और अपने परिवार की कमजोर स्थिति के आगे की पढाई पूरी नहीं कर सके। किरेन रिजिजू के आश्वासन के बाद रामेश्वर खुश है। रामेश्वर ने कहा कि अगर मौका दिया जाए तो वह अपने राज्य और राष्ट्र को गौरवान्वित कर सकते हैं।