अभी-अभी: कश्मीर के शोपियां में सेना कैंप के पास फायरिंग, सेना ने शुरू किया सर्च ऑपरेशन..

New Delhi: पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले के बाद पाक की चौतरफा आलोचना हो रही है। दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्ष इस घटना को लेकर पाक की जमकर आलोचना कर रहे हैं। इसी बीच अब आतंकी संगठन जमात उद दावा पर बैन लगाने का आदेश भी दे दिया। लेकिन अभी भी कश्मीर के इलाकों में संदिग्ध छिपे हुए हैं और इसी बीच एक बार फिर सेना के कैंप के पास फायरिंग हुई है।

 

शोपियां में सेना कैंप के पास फिर फायरिंग

कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर हमला हुआ था। इस आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हुए। इस हमले के बाद देश विदेश में पाकिस्तान की जमकर आलोचना की जा रही है। लेकिन इलाके में अभी भी आतंकि’यों की हरकत रुक नहीं रही है। इसी बीच अब कशमीर के शौंपिया में फिर सेना के कैंप के पास फायरिंग हुई है। हालांकि इस घटना के बाद सेना ने इलाके को चारो तरफ से घेर लिया है और सर्च ऑपरेशन जारी है।

मसूद अजहर का बचाव कर रहा पाकिस्तान

पुलवामा में शहीद हुए 45 जवानों को लेकर देश में जबरदस्त गुस्सा है और हर कोई पाक को उसकी नापाक हरकत की सजा देने की बात कर रहा है। इसी बीच अब कपिल सिब्बल ने पाक पर बड़ा हमला बोला है और सीधे तौर पर मसूद अजहर का बचाव करने और पुलवामा के लिए जिम्मेदार ठहराया है। दरअसल कपिल सिब्बल कहते हैं कि, इस हमले की जिम्मेदारी खुद जैश ने ली है, लेकिन पाक इस बात को इंकार कर रहा है। आगे वह कहते हैं कि, जैश का चीफ मजसूद अजहर पाकिस्तान में छिपा है और वह नापाक हरकत कर रहा है। लेकिन पाक उसका अपराध मानने की जगह उसको सुरक्षा मुहैया करा रहा है। ऐसे में साफ़ है कि, इस घटना के लिए पाक ही जिम्मेदार है और उसकी नापाक चाल ने ही यह आत्मघाती हमला करवाया है।

40 जवानों की शाहदत के बाद उठ रहे थे सवाल

पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद देश भर में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिल रहा था और हर कोई शहादत का बदला मांग रहा था। वहीं घटना के बाद पीएम मोदी से लेकर रक्षा मंत्री देश की जनता को बदले का भरोसा दिला रहे हैं। ऐसे में एक बार फिर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि, आगे अब पुलवामा जैसे हमले न हों इसके लिए सभी जरूरी कदम उठायें जा रहे हैं। इसी बीच अब केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है और जवानों को विमान से भेजे जाने का फैसला कैबिनेट में पास ही गया। ऐसे में अब सभी जवानों को छुट्टी के साथ ही ड्यूटी पर भी स्पेशल विमान से ही भेजा जाएगा।