सोशल मीडिया: कर्नाटक के नाटक पर आम आदमी – “हमको घंटा फर्क नहीं पड़ता”

New Delhi : कर्नाटक का नाटक कल यानी मंगलवार को ख़त्म हो गया। कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की अगुवाई वाली सरकार ने कल अपना बहुमत खो दिया। एचडी कुमारस्वामी कल विधानसभा में बहुमत साबित नहीं कर पाए। अब लगभग भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनना लगभग तय हो गया है। अपनी सरकार बनता देख भाजपा के कार्यकर्ताओं ने भाजपा कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा के घर के बाहर मिठाई बांटे।  यह मुद्दा twitter ट्रेंडिंग में से एक है। आइये देखते हैं क्या कह रहे हैं आम लोग।

राकेश कुमार ने लिखा – हमको घंटा फर्क नहीं पड़ता।

भाजपा की सरकार में न आने से लेकर सरकार में आने तक का सफ़र देखिये इस कुछ सेकेण्ड के वीडियो में

कर्नाटक में कुमारस्वामी के जाने के बाद अब मध्य-प्रदेश में कमलनाथ भी डरे हुए हैं।

विश्वास मत पेश करने में इतना देर लगा दिए भैया कि सारे विधायक बूढ़ा गए।

कर्नाटक में गठबंधन सरकार सिर्फ 14 महीने ही चल पाई। बागी विधायकों के चलते गठबंधन सरकार कई दिनों से मुश्किलों से जुझ रही थी। विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में केवल 99 वोट आए। विश्वास पक्ष के विरोध में 105 वोट आई । बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमों मायावती ने राज्य में अपने इकलौते विधायक को गठबंधन के पक्ष में वोट करने को निर्देशित किया था लेकिन विधायक सदन में पहुंचे ही नहीं। विधायक के इस रवैये से नाराज होकर मायावती ने उन्हें पार्टी से बेदखल कर दिया।

अपनी सरकार गिरने के बाद क्या कहा प्रियंका और राहुल गांधी ने ?
‘लालच की जीत हुई। यह लोकतंत्र, ईमानदारी और कर्नाटक की जनता की हार है’ – राहुल गांधी
“एक दिन भाजपा को पता चलेगा कि सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता है, हर किसी को तंग नहीं किया जा सकता है और हर झूठ अंततः सामने आ ही जाता है ।”- प्रियंका गांधी

भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान ने कहा – “कांग्रेस-जेडीएस का जो अपवित्र गठबंधन था,वह आज ध्वस्त हो गया। सत्य के एक हल्के से झोंके से ही जनादेश के खिलाफ बना यह रेत का किला ढह गया। मैं श्री बीएस येदियुरप्पा को बधाई देता हूं कि उन्होंने धैर्य और संयम के साथ लोकतंत्र की लड़ाई लड़ी और कर्नाटक को इंसाफ दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई”!