हिंदुओं को आतंकी बताने वाले दिग्विजय हारेंगे,हिन्दू आतंकवाद का झूठ रचने वाले चिदंबरम जेल जाएंगे

live india

New Delhi: कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर कहा कि- धर्म से उत्पन्न प्रज्ञा की जीत होगी। और खुद को ‘दिग्विजय’ मानकर बैठे अहंकारियों और षड्यंत्रकारियों की पराजय। वहीं, कपिल ने आगे कहा कि- हिंदुओं को आतंकी बताने वाले ‘दिग्विजय’ हारेंगे और हिन्दू आतंकवाद का झूठ रचने वाले चिदम्बरम तिहाड़ जेल जाएंगे। 

कपिल मिश्रा ने इससे पहले शायराना अंदाज में ट्वीट कर कहा था-  ना तुम्हें कानून की समझ हैं, ना देश की। जो बेगुनाह हैं उन्हें आतंकी बताते हो। जो आतंकी हैं उन्हें बचाने जाते हो।  तुम्हारी इस बदहाली में ही इस देश की खुशहाली हैं। बस रोते रहो, यहीं तुम्हारी नियति हैं।

इससे पहले कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर कहा था-  देखिए, सबसे पहले मैं दिल्ली में हूं। दिल्ली के कनॉट प्लेस में, सरोजनी नगर में, चांदनी चॉक में। हमने लगभग हर साल बम फटते देखा है। हमारी बसों में हमेशा लिखा होता था- लावारिस वस्तु में बम हो सकता है। सीट के नीचे देखिए। लेकिन पिछले पांच साल में दिल्ली हो या मुंबई आतंक’वादी कश्मीर से आगे बढ़ नहीं पाए। यहां एक भी आ’तंकी ह’मला नहीं हुआ। अभी सिर्फ आतंकवादियों के मरने की खबर आती है।

मुझे लगता है कि केवल एक ये ही प्वॉइंट ही काफी है कि हम जोर से एक हुंकार के साथ बोलें- कि हमें अभिमान है अपने प्रधानमंत्री पर। ऐसा ही प्रधानमंत्री देश को चाहिए। कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर पीएम मोदी की जोरदार तारीफ की है। उन्होंने कहा कि जब से मोदी पीएम बने हैं, देश में सिर्फ आतंकियों के मरने की ही खबर सामने आ रही है। पांच साल में दिल्ली में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ। दिल्ली वाले मोदी को वोट क्यों दें? सिर्फ एक ही मुद्दा मोदी को वोट देने के लिए काफी है।

वहीं,  कपिल मिश्रा के वीडियो पर यूजर्स ने कहा कि- क्या लाजवाब हवा चल रही है देश में। 2014 में मोदी ने जनता से वोट मांगा था
और आज जनता मोदीजी के लिये वोट मांग रही है। एक और यूजर ने लिखा कि- पांच साल में दिल्ली में एक भी आतंकी नही।
बहुत दिन हो गए केजरी की एक भी नौटंकी नही। ना उपराज्यपाल से जंग ना मनोरजंन की तरंग। चाहते हैं पंजे का संग शिला जी कर रही तंग। आस में है पंजे संग हाथ मिलाने की उमंग। डर है हार का क्यूंकि आप के वोटरों में लगी है सुरंग।

NCERT ने 9वीं की किताब से लोकतंत्र का चैप्टर हटाया,चुप रहे तो देश से ही हटा दिया जाएगा:कन्हैया

भारत सुरक्षित हुआ है, आतंकवादी भी मारे जा रहे हैं, धमाके भी बहुत कम हुए है। लेकिन देश मे छिपे हुए गद्दार अभी अपनी मानसिकता से बौद्धिक आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं। जिसका उद्देशय भारत को अस्थिर करना है। समाज को जागरूक करना आज बड़ी चुनौती है भारत के सामने।