CM बनने पर कमलनाथ ने जनता को कहा धन्यवाद, कहा- हम पूरी तरह उम्मीदों पर उतरेंगे खरे

NEW DELHI: कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई घंटों तक बैठक कर वरिष्ठ पार्टी नेताओं के साथ बातचीत कर कल यानी 13 दिसंबर को आखिरकार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में वरिष्ठ नेता कमलनाथ के नाम की घोषणा कर दी। कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद अब उनकी ताजपोशी की तैयारी शुरू हो गई है। इस कड़ी में 17 दिसंबर को डेढ़ बजे वह मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे और यह कार्यक्रम भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में आयोजित होगा। कमलनाथ ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर मध्य प्रदेश में सरकार बनाने के लिए दावा पेश कर दिया है।

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री घोषित होने पर कमलनाथ ने कहा है कि मैं जनता को धन्यवाद देना चाहता हूं और उम्मीद करता हूं कि हम उन उम्मीदों पर खरे उतरेंगे, जो उन्होंने हमसे और कांग्रेस पार्टी से लगाई हैं। हमारी प्राथमिकता कृषि क्षेत्र तथा युवाओं के लिए रोज़गार पैदा करना होगा। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं कमलनाथ जी को बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं देना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि मुझे आशा है, वह अपने सारे वादे पूरे करेंगे, तथा उन योजनाओं को जारी रखेंगे, जो हमने लागू की थीं।

Kamal Nath

चलिए अब आपको कमलनाथ के जीवन के बारे में बताते है, कमलनाथ का जन्म 18 नवंबर 1946 को यूपी के कानपुर में हुआ था। कमलनाथ ने देहरादून के दून स्कूल से पढ़ाई की, और फिर कोलकाता यूनिवर्सिटी के सेंट जेवियर कॉलेज से बीकॉम की पढ़ाई पूरी की। कमलनाथ राजनीति में आने से पहले बिजनेसमैन भी रहे। कमलनाथ छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से लगातार 9 बार सांसद रहे। जून 1991 में उन्होंने पर्यावरण और वन मंत्रालय में केंद्रीय राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार का पद मिला।

इसके बाद 1995 में कमलनाथ केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री भी रहे। 1998 से लेकर 2004 तक वह कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रहे। 2004 में मनमोहन सरकार में वह केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री रहे। 2009 में यूपीए सरकार में सड़क परिवहन मंत्री बने और 2011 में शहरी विकास मंत्री बने। अक्टूबर 2012 में कमलनाथ को संसदीय कार्यमंत्री की अतिरिक्त जिम्मेदारी मिली। साल 2012 में कांग्रेस ने कमलनाथ को प्रणब मुखर्जी की जगह यूपीए की ओर से एफडीआई की डिबेट में हिस्सा लेने का मौका दिया था, क्योंकि कमलनाथ को व्यापारिक मामलों का विशेषज्ञ भी कहा जाता था।