करारी हार के बाद कमलनाथ ने भी की प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद पार्टी में इस्तीफे देने का दौर चल पड़ा है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्य में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की है।विधानसभा चुनाव से पहले उनको मध्यप्रदेश का अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौपी गई थी। 

ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के जनरल सेक्रेटरी दीपक बबारिया ने बताया है कि कमलनाथ ने अपने इस्तीफे की पेशकश की है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस का हालिया लोकसभा चुनावों में प्रदर्शन बेहद खराब रहा है। वो राज्य की 29 में से महज एक सीट जीत सकी है। लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन की समीक्षा के लिए शनिवार को यहां आयोजित कांग्रेस कार्यकारिणी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में भी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ नहीं पहुंचे थे।।

बता दें कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महज 52 सीटों पर जीत मिली है। चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में कई इस्तीफे हो चुके हैं। कांग्रेस के उत्तर प्रदेश प्रभारी राज बब्बर, प्रचार समिति प्रमुख एच.के. पाटिल, ओडिशा पार्टी अध्यक्ष निरंजन पटनायक और अमेठी जिला अध्यक्ष योगेंद्र मिश्रा ने शुक्रवार को अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है।

बता दें कि हार के बाद पार्टी के अंदर मची कलह के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी शनिवार को कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में अपने इस्तीफे की पेशकश की। लेकिन कांग्रेस कार्यसमिति ने राहुल गांधी का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया।

फिलहाल देखने वाली बात ये है कि इस हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष अब किस तरह से पार्टी में मची भगदड़ को रोककर फिर से एकजुट करते हैं। हालांकि राहुल गांधी लगातार कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि वे निराश न हों ।

kaushlendra

सामाजिक और राजनीतिक विषयों पर लिखने में दिलचस्पी है।गांधी जी का फैन हूँ।समाज में जागरुकता लाना उद्देश्य है।पत्रकारिता मेरा प्रोफेशन है,जुनून है और प्यार भी है।
kaushlendra