कन्हैया की नैय्या क्राउड फंडिंग के सहारे, 8.5 लाख है जमा पूंजी, 8 करोड़ के गिरिराज से है सामना

NEW DELHI: पिछले दो-तीन वर्षों में अगर किसी ने छात्र नेता के रूप में सर्वाधिक लोकप्रियता हासिल की है, तो वह हैं कन्हैया कुमार। कन्हैया छात्र राजनीति का एक मुखर चेहरा हैं। बीते कुछ वर्षों में उन्होंने छात्र नेता के तौर पर अपनी एक मुकम्मल पहचान बनाई है। जेएनयू विवाद ने इस शख्स की जिंदगी ही बदलकर रख दी। जेएनयू विवाद नहीं होता तो शायद कन्हैया कुमार को आज कोई नहीं जानता। लेकिन आज कन्हैया कुमार बेगूसराय लोक सभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, PM मोदी पर जमकर वार कर रहे हैं। ये है हमारे देश के संविधान की ताकत।

बेगूसराय सीट से चुनाव लड़ रहे कन्हैया कुमार के पास न घर है न गाड़ी। उन्होंने 9 अप्रैल को नामांकन दाखिल किया था। चुनाव आयोग को दिए हलफनामे के मुताबिक कन्हैया बेरोजगार है। नौकरी नहीं है लेकिन कुछ कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में लेक्चर देने जाते हैं। कन्हैया ने एक किताब लिखी है जिसका नाम है बिहार टू तिहाड़। इस किताब की बदौलत ही कन्हैया के पास थोड़ा बहुत पैसा आया। कन्हैया हमेशा से कहते आए हैं कि उनका घर उनकी मां चलाती है जिनकी सैलरी 3 हजार रुपए प्रति महीना है। वो आंगनवाड़ी में काम करती हैं।

हलफनामे के मुताबिक कन्हैया के पास 24 हजार रुपए कैश हैं। वहीं बैंक खाते में 3,57,848 रुपए सेविंग्स है। साल 2017-18 में कन्हैया की कुल आय 6,30,360 रुपए थी। 2018-19 में ये घटकर 2,28,290 रुपए रह गई। उनके पास थोड़ी जमीन भी है जो उन्हें विरासत में मिली है। सभी मिला जुला कर कहा जाए तो कन्हैया के पास 8 लाख से ज्यादा की संपत्ति है।

बॉलीवुड का सपोर्ट

बॉलीवुड का सपोर्ट पाने वालों में कन्हैया कुमार भी शामिल हो गये हैं। आपको बता दें कन्हैया को शबाना आज़मी, जावेद अख़्तर, स्वरा भास्कर और प्रकाश राज जैसे कलाकारों का समर्थन हासिल है। 9 अप्रैल को जब कन्हैया ने अपना नामांकन करवाया था तब बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर भी वहां मौजूद थी। स्वरा खुलकर कन्हैया के सपोर्ट में आईं। वहीं, शबाना आज़मी ने कुछ दिन पहले कन्हैया के समर्थन में ट्वीट किया था।

5 मामले दर्ज
पुलिस केस में भी कन्हैया पीछे नहीं हैं। हलफनामे के मुताबिक कन्हैया पर धार्मिक सद्भाव बिगाड़ने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, अनाधिकृत सभा करने और धारा 124 A के तहत नारेबाजी करने के 5 मामले दर्ज हैं। लेकिन एक भी मामला ऐसा नहीं है जिसमें कन्हैया को अभी तक जेल हुई हो।

गिरिराज से टक्कर
आपको बता दें कि बीजेपी के गिरिराज सिंह कन्हैया कुमार के खिलाफ खड़े हैं। चुनाव आयोग को दिए हलफनामे के मुताबिक गिरिराज सिंह और उनकी पत्नी की कुल चल-अचल संपत्ति 8,30,24,577 रुपए है। 2014 में 5,00,54,771 रुपए थी। गिरिराज सिंह और उनकी पत्नी पर 1,22,36,000 रुपए की देनदारी है।

क्राउड फंडिंग से जुटाए 70 लाख
कन्हैया कुमार का कहना है कि वो जनता की लड़ाई जनता के पैसों से ही लड़ना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने क्राउड फंडिंग से पैसा जमा करने का मन बनाया। कन्हैया कुमार ने 5,500 से ज्यादा लोगों से 70 लाख रु. फंड जुटाया है। लोगों ने दिल खोलकर पैसा दिया। 70 लाख रुपए जमा करने के बाद कन्हैया कुमार ने क्राउड फंडिंग बंद कर दी।

क्राउड फंडिंग और रैलियों मे भीड़ देखी जाए तो कन्हैया कुमार बेगूसराए गिरिराज पर भारी पड़ रहे हैं। कहीं न कहीं गिरिराज भी इस बात को समझ चुके हैं। इसलिए खबर आई थी कि गिरिराज बेगूसराए से चुनाव नहीं लड़ना चाहते। जीत किसी की भी हो कन्हैया कुमार के बेगूसराए सीट से चुनाव लड़के के बाद ये सीट हॉट सीट में बदल गई है।