गांधी परिवार की SPG सुरक्षा हटाने के सवाल पर बोले जे पी नड्डा- खतरे के आकलन के बाद लिया फैसला

New Delhi: संसद के शीतकालीन सत्र का आज तीसरा दिन है और सदन की कार्यवाही जारी है। राज्यसभा में आज कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने गांधी परिवार के सदस्यों की एसपीजी सुरक्षा वापस लेने के मुद्दे को उठाया।

आनंद शर्मा ने कहा कि नेताओं की सुरक्षा का मुद्दा पक्षपात और राजनीति से ऊपर है। मनमोहन सिंह 10 वर्षों तक प्रधानमंत्री रहे हैं। वहीं, सोनिया गांधी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की बहू और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पत्नी हैं। हमें नहीं भूलना चाहिए कि दोनों पूर्व प्रधानमंत्रियों की ह’त्या की गई थी। सरकार पर इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी है।

इसका जवाब देते हुए बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि इसमें कुछ राजनीतिक नहीं है। सुरक्षा हटाई नहीं गई है। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय का प्रोटोकॉल तय है, किसी नेता नहीं बल्कि गृह मंत्रालय के द्वारा ख’तरे का आकलन कर सुरक्षा दी या हटाई जाती है।

बता दें कि शीत सत्र के पहले और दूसरे दिन लोकसभा में भी एसपीजी सुरक्षा का मुद्दा उठाया गया। मंगलवार को कांग्रेस के सदस्यों ने लोकसभा में गांधी परिवार की SPG की सुरक्षा वापिस लेने के विरोध में हं’गामा किया। कांग्रेस के सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के पास पहुंच गए। इस मुद्दे पर कांग्रेस के समर्थन में डीएमके के सदस्य भी आगे आए और नारेबाजी करने लगे। कांग्रेस और डीएमके के सदस्यों ने ‘बदले की राजनीति बंद करो’, ‘एसपीजी के साथ राजनीति करना बंद करो’ और ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगाए।

हाल ही में केंद्र सरकार ने गांधी परिवार के तीन सदस्यों की एसपीजी सुरक्षा वापिस ली थी। इनमें कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी शामिल हैं।

शीत सत्र के दूसरे दिन भी कांग्रेस ने उठाया गांधी परिवार से SPG सुरक्षा वापस लेने का मुद्दा

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले संजय राउत- दिसंबर से पहले बनेगी सरकार, कल दोपहर तक अच्छी खबर