जेट एयरवेज के अधिकारियों का इस्तीफा देने का सिलसिला जारी

New Delhi:  जेट एयरवेज के पंख थमने के बाद उसके अधिकारी भी उसे छोड़ के जाने लगे हैं। एयरवेज के बड़े अधिकारियों के इस्तीफें का सिलसिला जारी है। एयरलाइन ने आज कहा कि  सीईओ विनय दुबे ने “व्यक्तिगत कारणों से” तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।

जेट एयरवेज ने कहा, “हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री विनय दूबे ने 14 मई, 2019 को अपने पत्र में, कंपनी की सेवाओं से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।”दूबे का इस्तीफा मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) और उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी (डिप्टी सीईओ) अमित अग्रवाल के इस्तिफे के बाद आया है। एयरलाइन ने यह भी कहा था कि अग्रवाल ने “व्यक्तिगत कारणों” के कारण इस्तीफा दिया।

अगस्त 2017 में दूबे जेट एयरवेज में शामिल हुए थे, इसके पहले वह अमेरिकन एयरलाइंस में थे। जेट एयरवेज से पहले, वह डेल्टा एयरलाइंस में एशिया पैसिफिक के वरिष्ठ उपाध्यक्ष थे।

 

पैसों की तंगी के कारण पिछले एक महीने से जेट एयरवेज की सेवाएं अस्थाई तौर पर बंद है। मार्च नहीने से पायलट और कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिली है। हालांकि, जेट एयरवेज में हिस्सेदारी खरीदने के लिए एतिहाद एयरलाइन ने इच्छा जताई है।जेट एयरवेज में निवेश करने के लिए एतिहाद एयरवेज ने सशर्त बोली लगाई है, जिसमें  कहा गया है कि कंपनी 1,700 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने में सक्षम नहीं होगा। जो जेट को पुनर्जीवित करने के लिए एतिहाद एयरवेज का जेट एयरवेज में निवेश करना आवश्यक है।

 

 

Rajat Kumar

Trainee Copy Editor at Live India
सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत-ए-हाल बदलनी चाहिए।
Rajat Kumar