ये वक्त अंग्रेजों के शासनकाल जैसा है: राहुल गाँधी

(New Delhi) कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में राहुल गाँधी ने बोलते हुए कहा कि,देश में अब कोई संस्थान ऐसा नहीं बचा है जो आपका सहयोग करेगा।ये वक्त अग्रेजों के शासनकाल जैसा है।यहाँ पर चाहे कोई भी संस्था हमारा और पार्टी का सहयोग न करे,फिर भी हम लड़ेंगे और दोबारा से संविधान का शासन स्थापित करंगे।

हमको बिल्कुल कमजोर नहीं महसूस करना है।कांग्रेस पार्टी के लोकसभा में 52 सदस्य हैं लेकिन हम सभी शेर की तरह बिना डरे हुए लड़ेंगे और जीतेंगे भी।

राहुल गाँधी ने कहा हमारी लड़ाई सिर्फ और सिर्फ विचारों की लड़ाई है जो चलती रहेगी।हम भाजपा के विचार को कभी स्वीकार करने वाले नहीं है।कांग्रेस पार्टी के हर एक सदस्य को याद रखना होगा हम देश के संविधान को बचने के लिए लड़ रहे हैं।हम देश के हर एक इंसान के लिए लड़ेंगे वो किसी भी जाति,धर्म या देश के किसी भी हिस्से का रहने वाला हो।

आपको बता दे आज कांग्रेस संसदीय दल की बैठक थी जिसमें सोनिया गांधी एक बार फिर संसदीय दल की नेता चुनी गईं। बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत पार्टी के वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। फिर से नेता चुने जाने पर सोनिया गांधी ने कांग्रेस को वोट करने वालों का धन्यवाद किया।

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। सोनिया गांधी को कांग्रेस संसदीय दल का नेता चुना गया है। सोनिया गांधी की तरफ से उन्होंने बताया कि हम उन 12.13 करोड़ वोटरों का धन्यवाद करते हैं जिन्होंने कांग्रेस पार्टी पर विश्वास जताया।

पिछले हफ्ते कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक के बाद यह मीटिंग हुई है, जिसमें राहुल गांधी ने पार्टी की शर्मनाक हार के बाद इस्तीफे की पेशकश की थी, जिसे ठुकरा दिया गया था। कांग्रेस के लिए मुश्किल यह है कि लोकसभा में उसके सिर्फ 52 सांसद हैं। विपक्ष का दर्जा पाने के लिए एक पार्टी के पास कम से कम 55 सांसद होने जरूरी हैं।