ITC को फर्श से अर्श तक पहुंचाने वाले चेयरमैन वाईसी देवेश्वर का निधन, प्रधानमंत्री ने जताया शोक

 

New Delhi:आईटीसी कंपनी के चेयरमैन और जाने-माने इंडस्ट्रियलिस्ट योगेश चंद्र देवेश्वर का शनिवार को निधन हो गया। उनके निधन पर प्रधानमंत्री ने शोक जताया है।

प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा “श्री वाई सी देवेश्वर जी ने भारतीय उद्योगों में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनके प्रयासों से आईटीसी दुनियाभर में पेशेवर रूप से चलने वाली कंपनी बन गई। उनके निधन से मैं दुखी हूं। दुख के इस समय पर मेरी संवेदनाएं उनके परिवार, दोस्तों और आईटीसी समूह के साथ हैं।”

देवेश्वर की मृत्यु की खबर ITC के MD संजीव पुरी बयान के बाद आया । उन्होनें कहा कि उनके (देवेश्वर)  नेतृत्व में ITC  इस मुकाम पर पहुंच पाया। देवेश्वर भारत के सबसे लंबे समय तक सीईओ के पद पर रहने वाले शख्स हैं। वह दो दशक तक इस पद बरकरार रहें।  उनको 2011 में देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण से भी नवाजा जा चुका है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘वाईसी देवेश्वर जी के निधन से दुख हुआ। वे कॉरपोरेट जगत में एक अहम स्थान रखते थे। मेरी उनके साथ कई यादें जुड़ी हैं। उनके परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं है

अमेरिका और चीन में जारी है बादशाहत की जंग, अमेरिका ने बढ़ाया चीन पर टैरिफ

मध्य के प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी देवेश्वर के मृत्यु पर शोक जताया। उन्होनें अपने ट्विट में लिखा कि “ ITC के  पूर्व चैयरमैन देवेश्वर की मृत्यु की खबर सुन कर मैं हतप्रभ हूं। मध्य प्रदेश ने अपने एक अच्छे देस्त को खो दिया। उन्होनें मध्य प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।“

देवेश्वर का जन्म 4 फरवरी 1947 को लाहौर में हुआ था। उन्होंने दिल्ली आईआईटी और उसके बाद हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की। 1968 में उन्होंने आईटीसी ज्वाइन की। 1996 में वे कंपनी के एग्जीक्यूटिव चेयरमैन बने और 5200 करोड़ रु. रेवेन्यू को 51 हजार 500 करोड़ रुपए तक पहुंचा दिया।

1991 से 94 तक देवेश्वर एयर इंडिया के चेयरमैन एंड मैनेजिंग डायरेक्टर (सीएमडी) रहे। वे आरबीआई के केंद्रीय बोर्ड में भी डायरेक्टर रहे। देवेश्वर ने 2017 में आईटीसी का चीफ एग्जीक्यूटिव का पद छोड़ दिया था। इसके बाद वे कंपनी के नॉन-एग्जीक्यूटिव चेयरमैन बने रहे।

Rajat Kumar

Trainee Copy Editor at Live India
सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत-ए-हाल बदलनी चाहिए।
Rajat Kumar