देश की रक्षा के लिए कार्टोसैट-3 लॉन्च करेगा ISRO,सर्जिकल स्ट्राइक और एयरस्ट्राक में मिलेगी मदद

New Delhi : चंद्रयान-2 के बाद अब ISRO का नया मिशन कार्टोसैट-3 लॉन्च होगा तब इससे देश के दुश्मनों के होश उड़ जाएंगे।   कार्टोसैट-1 और 2 की मदद से ही हमारी सेनाओं ने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट एयरस्ट्राइक की थी।

वैसे तो इस सैटेलाइट का काम होगा अंतरिक्ष से भारत की जमीन पर नजर रखना। आपदाओं में और ढांचागत विकास के लिए मदद करना लेकिन इसका उपयोग देश की सीमाओं की निगरानी के लिए भी होगा। पाकिस्तान और उसके आ’तंकी कैंपों पर नजर रखने के लिए यह मिशन देश की सबसे ताकतवर आंख होगी। यह सीमाओं पर नजर रखेगी। दुश्मन या आ’तंकियों ने हिमाकत की तो इस आंख की मदद से हमारी सेना उन्हें उनके घर में घुस कर मारेगी।

इस सैटेलाइट का नाम है – Cartosat-3 (कार्टोसैट-3)। यह कार्टोसैट सीरीज का नौवां सैटेलाइट होगा। कार्टोसैट-3 का कैमरा इतना ताकतवर है कि वह अंतरिक्ष से जमीन पर 1 फीट से भी कम (9।84 इंच) की ऊंचाई तक की तस्वीर ले सकेगा। यानी आप की कलाई पर बंधी घड़ी पर दिख रहे सही समय की भी सटीक जानकारी देगा। पाकिस्तान पर हुए सर्जिकल और एयर स्ट्राइक पर कार्टोसैट उपग्रहों की मदद ली गई थी। इसके अलावा विभिन्न प्रकार के मौसम में पृथ्वी की तस्वीरें लेने में सक्षम। प्राकृतिक आपदाओं में मदद करेगा।