अभी-अभी:अंतरिक्ष की दुनिया में लगातार दूसरी कामयाबी,PAK-आ’तंकियों पर आसमान से रहेगी हमारी नजर

New Delhi: इसरो ने आज एमिसैट को लॉन्च किया है।  भारत लगातार अंतरिक्ष की दुनिया में नया इतिहास रचता जा रहा है। सुरक्षा के लिहाज से इसे काफी महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है। इससे अंतरिक्ष से भारत पाक और आतं’कियों पर नजर रख सकेगा।  एमिसैट का प्रक्षेपण रक्षा अनुसंधान विकास संगठन के लिए किया जा रहा है। 

इसरो के अध्यक्ष के. सिवान के अनुसार, यह हमारे लिए विशेष मिशन है। हम चार स्ट्रैप ऑन मोटर्स के साथ एक पीएसएलवी रॉकेट का इस्तेमाल करेंगे, इसके अलावा पहली बार हम तीन अलग-अलग ऊंचाई पर रॉकेट के जरिए ऑर्बिट में स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं।एमिसैट के साथ पीएसएलवी रॉकेट तीसरे पक्ष के  28 उपग्रहों को ले गया है। अपने तीन अलग-अलग कक्षों में नई प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन भी करेगा।

इसे इसरो और डीआरडीओ ने मिलकर बनाया है। इसका खास मकसद पाकिस्तान की सीमा पर इलेक्ट्रॉनिक या किसी तरह की मानवीय गतिविधि पर नजर रखना है। यानी बॉर्डर पर ये उपग्रह रडार और सेंसर पर निगाह रखेगा। ना सिर्फ मानवीय बल्कि संचार से जुड़ी किसी भी तरह की गतिविधि पर नज़र रखने के लिए इस उपग्रह का इस्तेमाल हो सकेगा।

इसरो के अनुसार, रॉकेट पहले 436 किग्रा के एमिसैट को 749 किलोमीटर के कक्ष में स्थापित करेगा। इसके बाद यह 28 उपग्रहों को 504 किमी की ऊंचाई पर उनके कक्ष में स्थापित करेगा। इसके बाद रॉकेट को 485 किमी तक नीचे लाया जाएगा जब चौथा चरण/इंजन तीन प्रायोगिक भार ले जाने वाले पेलोड के प्लेटफॉर्म में बदल जाएगा।

हाल ही में भारत ने अंतरिक्ष की दुनिया में एक नया इतिहास रचा था, जब भारत ने स्पेस में एक मूविंग सैटेलाइट को मारने का सफल परीक्षण किया था। ऐसा करने वाला भारत अमेरिका, रूस और चीन के बाद दुनिया का चौथा देश बना था। इस सफलता का ऐलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए किया था।