माया का भाई-भतीजावाद, कांग्रेस नेता बोले- क्या परिवारवाद कांग्रेस में है ?

New Delhi: लोकसभा चुनाव के बाद बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो ने पार्टी में बड़ा उलटफेर किया है। मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार को बसपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया, वहीं भतीजे आकाश आनंद को नेशनल कॉर्डिनेटर बनाया है। इस पर कांग्रेस के नेता आचार्य प्रमोद ने मायावती पर तंज कसा है। आचार्य ने अपने ट्वीट में लिखा है कि – ‘भतीजा संयोजक, भाई उपाध्यक्ष और बहिन जी स्वयं, राष्ट्रीय अध्यक्ष………लेकिन “परिवार वाद” कांग्रेस में है’।
आपको ज्ञात हो कि कांग्रेस पर सबसे ज्यादा वंशवाद के आरोप लगते हैं। वर्ष 2017 में जब राहुल गांधी अध्यक्ष चुने गए थे उन पर वंशवाद के आरोप लगे थे। इसके पहले उनकी मां सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष थीं।

मायावती ने पार्टी नेताओं के साथ बैठक कर कई बड़ी घोषणाएं की। इसके अलावा दानिश अली को लोकसभा में बहुजन समाजवादी पार्टी का नेता बनाया गया है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, देश के सभी राज्यों में पार्टी को मजबूत करने के लिए आकाश आनंद को अहम जिम्मेदारी दी गई है। हाल ही में यूपी में 11 विधान सभा सीटों पर उपचुनाव होना है। मायावती और अखिलेश का गठबंधन टूट चुका है।

बैठक में मायावती ने अखिलेश पर और उनकी पार्टी के नेताओं पर कई आरोप लगाये। मायवती ने कहा कि गठबंधन के चुनाव हारने के बाद अखिलेश ने मुझे कोई फोन नहीं किया। जबकि सतीश चंद्र मिश्रा ने उन्हें फोन कर मुझसे बात करने के लिए कहा था, बावजूद इसके उन्होंने कोई संपर्क नहीं किया। मायवती ने कहा कि एसपी के लोगों ने चुनाव में धोखा दिया कई जगहों पर बीएसपी को एसपी के नेताओं ने हराने का काम किया।

आचार्य प्रमोद इस लोकसभा चुनाव में लखनऊ सीट से मैदान में थे। प्रमोद तीसरे नंबर पर रहे थे। उनके सामने थे भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह। राजनाथ सिंह 6 लाख से भी ज्यादा वोट पाकर विजयी हुए थे। राजनाथ सिंह ने गठबंधन की तरफ से लड़ रहीं सपा प्रत्याशी पूनम सिन्हा को करीब तीन लाख 40 हजार वोटों से हराया। कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद कृष्ण को महज एक लाख 80 हजार 11 वोटो से संतोष करना पड़ा।