जयपुर की बसों में कांवरियों पर पथ’राव, पुलिस हुई स’ख्त, शहर में इंटरनेट सेवाएं बंद

New Delhi: जयपुर के कुछ इलाकों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। पुलिस ने इस संदर्भ में कहा कि मंगलवार को सुबह में कुछ क्षेत्रों में सेवाओं को बंद कर दिया गया है। “अफ’वाहों को फैलने से रोकने के लिए” जिला प्रशासन को यह कदम उठाना पड़ा है। बसों में तीर्थयात्रियों पर ह’मला करने के बाद दो समूह भि’ड़ गए थे।

इस घटना के बाद शहर में सांप्र’दायिक दं’गों से बचने के लिए पुलिस ने मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर प्रति’बंध लगा दिया था। आम तौर पर ऐसी घटनाएं आ’ग की तरह फैलती हैं, बेवजह बात को बढ़ाया जाता है और विभिन्न समुदाय आपस में ही झ’गड़ने लगते हैं। इन हा’दसों से बचने के लिए इंटरनेट सेवाओं पर कुछ घंटो के लिए रो’क लगा लगा दी गई थी।

जिला प्रशासन ने 10 पुलिस स्टेशनों में फोन इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया था। इन क्षेत्रों में गलता गेट और रामगंज शामिल हैं। राजस्थान की राजधानी में सांप्र’दायिक रूप से ये सं’वेदनशील क्षेत्र माने जाते हैं। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि रविवार को दो समुदायों के बीच मामूली झ’ड़प के बाद रामगंज और आसपास के इलाकों में स्थिति तनाव’पूर्ण हो गई थी।

रामगंज और हनुमान जी चौराहा जैसी जगहों पर लोगों के इकट्ठा होने के बाद सोमवार शाम को स्थिति और गं’भीर हो गई थी। दिल्ली रोड पर हरिद्वार जाने वाली बस जिसमें कांवरियां शामिल थे उसपर पथ’राव किया गया था। इस घटना में एक दर्जन से अधिक बसें क्षति’ग्रस्त हो गईं।

मौके पर पहुंच पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में किया और भीड़ को काबू करने के लिए आं’सू गैस और ब’ल का प्रयोग किया। इस झ’ड़प में 20 लोग और सात पुलिसकर्मी घा’यल हो गए हैं। जयपुर के पुलिस आयुक्त आनंद श्रीवास्तव ने कहा कि पथ’राव की वजह का पता अब तक नहीं लगाया जा सका है।