लोकसभा अध्यक्ष के साथ कोर्डिनेट करके यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिया कड़ा फैसला, पैरेंटस को राहत

इंटरनेशनल प्लानिंग थी उत्तर प्रदेश में जातीय उन्माद फैलाने की, देशद्रोह की धाराओं के साथ FIR

New Delhi : उत्तर प्रदेश में माहौल बिगाड़ने का एक ‘अंतरराष्ट्रीय’ षडयंत्र का खुलासा उत्तर प्रदेश पुलिस ने किया है। पुलिस ने हाथरस के छंदपा पुलिस स्टेशन में अज्ञातों के खिलाफ यह मामला दर्ज किया है, जिसमें अन्य आरोपों के आलावा देशद्रोह की धाराएं भी लगाई गईं हैं। इस केस में त्वरित जांच की प्रक्रिया चल रही है। इस मामले में पुलिस को एक आरोपी भी मिल गया है। इसने justiceforhathrasvictim.carrd.co वेबसाइट बनाई थी। कहा जा रहा है कि इसी वेबसाइट के जरिये साजिश रची जा रही थी जबकि इससे जुड़े लोगों का कहना है कि इस पर हाथरस प्रकरण के खिलाफ सुरक्षित प्रदर्शन और पुलिस से बचाव करते हुये प्रदर्शन में शामिल होने की जानकारियां दी जा रहीं थीं।

खुफिया के हवाले से ऐसी मीडिया रिपोर्टस सामने आईं जिसमें कहा गया कि जानबूझ कर उत्तर प्रदेश का माहौल बिगाड़ने और जातीय उन्माद फैलाने का षडयंत्र किया गया। इसमें एक दो संगठनों का नाम भी सामने आया है। इसके लिये फॉरेन फंडिंग के भी आरोप लग रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी रविवार को कहा था कि विपक्षियों को प्रदेश का विकास कार्य बर्दाश्त नहीं हो रहा। सरकार को बेपटरी करने के लिये, विकास के रास्ते से डिगाने के लिये जातीय उन्माद फैलाने के षडयंत्र रचे जा रहे हैं।
इधर हाथरस के सांसद राजवीर दिलेर के बाद सोमवार को हाथरस के बरौली विधानसभा क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के विधायक दलबीर सिंह ने हाथरस प्रकरण के आरोपियों से मुलाकात की। विधायक एक वकील के साथ अलीगढ़ जेल पहुंचे थे जहां हाथरस के आरोपी बंद हैं। हालांकि बाहर निकलने के बाद नेता जी ने इस बात से इंकार कर दिया कि वे हाथरस के आरोपियों से मिले हैं। उनके वकील ने कहा कि अपने क्षेत्र के एक उम्रकैद की सजा भुगत रहे एक सजायाफ्ता के पेरौल के विषय को समझने के लिये जेल में गये थे और सिर्फ उसी कैदी से मिले।
वैसे हाथरस के भारतीय जनता पार्टी के सांसद राजवीर दिलेरे ने हाथरस के आरोपियों से मुलाकात के बाद उन्हें हर संभव सहयोग का आश्वासन भी दिया है। इन नेताओं के आरोपियों के पक्ष में इस तरह से खड़े हो जाने की वजह से माहौल बेहद अजीब हो गया है। हाथरस के हवा में जातीय समीकरण कुछ ज्यादा ही घुल गये हैं। ऐसा देखा जा रहा है कि फॉरवार्ड इलाकों या गांवों में लोग इस प्रकरण के आरोपियों को लेकर रो रहे हैं और आंसू बहा रहे हैं। ऊंची जाति के लोग आरोपियों के पक्ष में खड़े हो गये हैं। वहीं दलित समुदाय में भी विरोध का स्वर मजबूत होता जा रहा है। जातीय गोलबंदी तेजी से घनघोर होती जा रही है।

इधर इस मामले को लेकर आज दोपहर में उस समय माहौल और गर्म हो गया जब हाथरस पीडितों से मिलने जा रहे आप नेता संजय सिंह के चेहरे पर स्याही डाल कर मुंह काला किया गया। वैसे आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन आप और विपक्षी पार्टियों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। राष्ट्रीय लोक दल के कार्यकर्ताओं ने भी आज जगह जगह विरोध प्रदर्शन कर जयंत चौधरी के साथ हुये दुर्व्यवहार का विरोध किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ eighty seven = eighty eight