खुलने वाली है देश की सबसे बड़ी सुरंग, चीन और PAK बॉर्डर पर सेना आसानी से ले जाएगी हथियार

New Delhi : चीन और पाकिस्तान की सरहद पर तैनात सेना तक आसानी से रसद और ह’थियार पहुंचाने के मकसद से चार हजार करोड़ रुपए की लागत से बनी रोहतांग सुरंग दिसंबर में खुलने वाली है। इसका काम अंतिम दौर में चल रहा है। इसे थ्री-डी तकनीक से लैस किया जा रहा है। सुरंग के भीतर के 8।9 किलोमीटर लंबे सफर को तय करने के लिए अब सिर्फ 15 से 20 मिनट लगेंगे।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने अपने मनाली दौरे के दौरान कहा कि सरकार ने यह लक्ष्य रखा है कि इस साल से दिसंबर माह तक रोहतांग सुरंग को तैयार कर लिया जाएगा। साथ ही यह योजना बनाई गई है कि देश-विदेश के मनाली घूमने आने वाले सैलानियों को रोहतांग सुरंग का सफर हमेशा यादगार साबित हो।

रोहतांग सुरंग के भीतर थ्रीडी तकनीक अपनाने के लिए काम शुरू कर दिया गया है। इस तकनीक के तहत जैसे ही पर्यटक सुरंग के भीतर प्रवेश करेंगे, उन्हें अंदर लगाई गई स्क्रीनें प्राकृतिक नजारों के साथ-साथ रोमांचित सफर की भी अनुभूति कराएंगी। जानकारी के अनुसार सुरंग के भीतर सफर कर रहे लोगों को थ्रीडी तकनीक के माध्यम से ऐसा लगेगा कि वे बर्फ के ग्लेशियरों के बीच से गुजर रहे हैं। इसके अलावा उन्हें ऐसा भी महसूस होगा कि वे घने जंगलों के बीच से गुजर रहे हैं। रोहतांग सुरंग के भीतर हो रहे पानी के रिसाव वाले स्थल पर कंक्रीट का पुल तैयार किया जा रहा है। सरकार ने सुरंग को तैयार करने का लक्ष्य इसी साल के दिसंबर माह का रखा है।

इसके अलावा सुरंग की सैर करने के लिए सैलानियों को साउथ पोर्टल पर विशेष बसें उपलब्ध करवाई जाएंगी। सैलानी इन बसों में बैठकर रोहतांग सुरंग के नॉर्थपोर्टल तक पहुंचेंगे और 8.9 किलोमीटर लंबी इस सुरंग के बीच थ्रीडी तकनीकी से दिखाए जाने वाले नजारों को देखेंगे।