ब्रिटेन में भारतीय मूल के अधिकारी ने लीड किया ऑपरेशन, मा’र गि’राया पाकिस्तानी आ’तंकी

New Delhi : ब्रिटेन में हुए टे’रर अ’टैक में पुलिस ने जिस आ’तंकी उस्मान खान को मा’र गि’राया है वो पाकिस्तानी मूल का ब्रिटिश नागरिक है। इस ह’मले का एक दूसरा पक्ष ये है भी कि ब्रिटिश पुलिस की जिस टीम पर इस आ’तंकी ह’मले से निपटने का जिम्मा था उसके चीफ भारतीय मूल के जांबाज पुलिस अधिकारी नील बासू थे।

नील बासू ब्रिटेन में आ’तंकवा’दी दस्ते के खिलाफ ऑ’परेशन के लिए बनाई गई टीम के चीफ हैं। नील बासू स्कॉटलैंड यार्ड के काउंटर टेररिज्म पुलिसिंग डिपार्टमेंट के प्रमुख हैं और उन्हें अस्सिटेंट कमिश्नर का पद मिला हुआ है। ब्रिटेन की पुलिस को स्कॉटलैंड यार्ड कहा जाता है। ब्रिटेन में 2019 के सबसे प्रभावशाली एशियाई लोगों की सूची में मेट्रोपॉलिटन पुलिस के आ’तंकवाद-निरोधक प्रमुख नील बासू को शामिल किया गया था।

नील बासू ने कहा कि पुलिस को लगभग 13.58 मिनट दोपहर में लंदन ब्रिज पर ह’मले की सूचना मिली। तत्काल वहां कई सु’रक्षा एजेंसियां पहुंच गईं, इनमें इमरजेंसी सर्विसेज, लंदन पुलिस के अधिकारी और मेट्रोपोलिटन अधिकारी शामिल थे।

उस्मान खान पाकिस्तानी मूल का नागरिक है, उसने अपना बचपन पाकिस्तान में बिताया था, जहां वो अपनी मां के साथ रहता था। उस्मान खान आ’तंकवाद के एक मामले में दो’षी ठहराया जा चुका था, इस वक्त वह पैरोल पर बाहर था। उस्मान खान जनवरी 2012 में इंग्लैंड के आ’तंकवाद अधिनियम 2006 के तहत आ’तंकी गतिविधियों में शामिल होने का दो’षी पाया गया था। उस पर लंदन स्टॉक एक्सचेंज को उड़ाने की कोशिश का दो’ष सिद्ध हुआ था।

28 साल के उस्मान खान ने शुक्रवार को लंदन ब्रिज पर चा’कू लेकर को’हराम मचा दिया था। इस शख्स ने लगभग पांच लोगों को चा’कू मा’र दिया, इसमें 2 लोगों की मौ’त हो गई जबकि 3 लोग घा’यल हो गए थे। हालांकि घटना की सूचना मिलते ही ब्रिटेन की एंटी टेरर पुलिस वहां पहुंच गई और पांच मिनट में उसे ढे’र कर दिया।