अभी-अभी: अधिक उम्र के अधिकारी विकास में बाधा, देश को युवा अधिकारियों की जरूरत: PM मोदी

अभी-अभी: अधिक उम्र के अधिकारी विकास में बाधा, देश को युवा अधिकारियों की जरूरत: PM मोदी

By: Naina Srivastava
March 10, 10:39
0
New Delhi: फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों के साथ राजघाट पर बापू को श्रद्धांजलि देने के बाद पीएम मोदी राष्‍ट्रीय जनप्रतिनिध सम्‍मेलन संबोधित कर रहे हैं। सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा कि हर घर में बिजली पहुंचाना हमारा दायित्व है। 

संसद के सेंट्रल हॉल में राष्‍ट्रीय जनप्रतिनिध सम्‍मेलन में संबोधित करते हुए  पीएम मोदी ने आगे कहा कि सामाजिक न्‍याय हम सभी का दायि‍त्‍व है। सामाजिक न्‍याय में बराबरी हो। इतना ही नहीं पीएम ने आगे कहा कि सामाजिक न्‍याय का सामाजिक दायरा भी है।  संबोधन में पीएम ने कहा कि हमारा संविधान दुनिया में विशेष है। उन्होंने आगे कहा कि अधिक उम्र के डीएम देश के विकास में बाधा है। देश को नए अफसरों को जिम्‍मेदारी देने की जरूरत है। 

बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों चार दिन के दौरे पर भारत पहुंच गए हैं। मैक्रों शुक्रवार देर रात दिल्ली पहुंचे, जहां एयरपोर्ट जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद उनका स्वागत किया। पीएम मोदी ने गले लगाकर मैक्रों का भारत में स्वागत किया।

फ्रेंच राष्ट्रपति दिल्ली पहुंचने के बाद राजघाट पहुंचे और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उनकी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड भी साथ रहीं। देर रात दिल्ली पहुंचने के बाद शनिवार सुबह इमैनुएल मैक्रों राष्ट्रपति भवन पहुंचे। जहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस दौरान राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उनकी पत्नी सविता कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहे। 

मैक्रों के साथ उनकी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड और उनके मंत्रिमंडल के वरिष्ठ मंत्री भी भारत पहुंचे हैं। इमैनुएल मैक्रों की इस यात्रा के साथ ही दोनों देशों की दोस्ती का एक नया दौर शुरू होने जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति मैक्रों के बीच आज प्रतिनिधि स्तर की बातचीत में आतंकवाद, रक्षा और हिंद महासागर में सहयोग बढ़ाने के साथ-साथ कई अहम मुद्दों पर समझौते हो सकते हैं। 


वहीं, फ्रांस के सहयोग से बन रहे जैतापुर (महाराष्ट्र) परमाणु बिजली संयंत्र को लेकर भी समझौते पर हस्ताक्षर की उम्मीद है। फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों 12 तारीख को वाराणसी जाएंगे, जहां वो गंगा आरती में शरीक होंगे। प्रधानमंत्री भी राष्ट्रपति के साथ काशी में मौजूद रहेंगे। इसके अलावा वो प्रधानमंत्री के साथ मिर्जापुर में सौर संयंत्र का उद्घाटन करेंगे। मैक्रों अपनी पत्नी के साथ ताज का दीदार करने भी जाएंगे।


पीएम मोदी के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद मैक्रों विद्यार्थियों के साथ एक खुली चर्चा में शामिल होंगे। इसमें विभिन्न स्तर के करीब 300 छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है। राष्ट्रपति मैक्रों ज्ञान सम्मेलन में भी भाग लेंगे। इसमें दोनों पक्षों के 200 से अधिक शिक्षाविद शामिल होंगे। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।