कुलभूषण मामला : भारत-पाकिस्तान दोनों ने कहा ICJ के फ़ैसले का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता

New Delhi : भारत और पाकिस्तान दोनों 17 जुलाई को कुलभूषण जाधव मामले में फैसले का इंतजार कर रहे हैं। दोनों देश अपनी-अपनी टीम को हेग भेज रहे हैं जहां इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) 17 जुलाई को भारतीय समयानुसार शाम 6.30 बजे फैसले की घोषणा करेगी

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, “हमें 17 जुलाई तक इंतजार करना होगा।इस मामले में पहले से अटकलें लगाना उचित नहीं है। हमने भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाली एक टीम भेज दी है।

भारत के साथ ही पाकिस्तान ने भी गुरुवार को कहा कुलभूषण मामले आईसीजे के फैसले का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फैसल मोहम्मद ने कहा, “हम फैसले को पूर्व निर्धारित नहीं कर सकते हैं, हालांकि, हम मामले के लिए बड़े पैमाने पर तैयार हैं। सबसे अच्छा वकील किया गया था और अटॉर्नी जनरल के नेतृत्व में सभी संस्थानों ने मुकदमा लड़ा, सभी दस्तावेज आईसीजे की वेबसाइट पर हैं।” उन्होंने आगे कहा “चूंकि मामला प’क्षपातपूर्ण है, इसलिए, हम इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते। हालांकि, हम सकारात्मक परिणाम की उम्मीद करते हैं क्योंकि हमारा मामला अच्छी तरह से तैयार था।”

25 मार्च 2016 को पाकिस्तान द्वारा भारतीय उच्चायोग को कुलभूषण के बारे में सूचित करने के बाद से ही भारत से जाधव को कांसुलर एक्सेस देने की मांग कर रहा है। पाकिस्तान ने अब तक जाधव को कांसुलर एक्सेस देने से इनकार कर दिया है। भारत ने 8 मई, 2017 को अंतराष्ट्रीय न्यायालय में मामलें को उठाया था, और पाकिस्तान के खिलाफ “कांसुलर कन्वेंशन ऑन वियना कन्वेंशन, 1963 के उल्लंघन के लिए” मामला दर्ज किया था साथ ही कुलभूषण की फाँ’सी को भी रोक दिया गया।

जिसके बाद  18 मई, 2017 को, ICJ ने पाकिस्तान को आदेश दिया था, जिसमें पाकिस्तान को इस मामले में आगे की कार्यवाही करने से भी रो’क दिया था।

भारत के कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी की जासूस एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) ने ईरान से गि’रफ़्तार कर लिया था जिसके बाद पाकिस्तानी की सैन्य अदालत ने कुलभूषण जाधव को कथित जासूसी के आ’रोप में मौ’त की सजा सुनाई थी।