इमरान खान ने POK में रैली कर भारत के खिलाफ लोगों को भड़काया, बोले- LOC कब जाना है, मैं बताऊंगा

New Delhi: जम्मू- कश्मीर पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान बौखलाये हुए हैं और अंतर्राष्ट्रीय मंच पर मात खाने के बावजूद भी नए- नए राग अलाप रहे हैं। उन्होंने शुक्रवार को POK में एक भाषण के दौरान कहा कि कश्मीर की स्थिति दुनिया के मुसलमानों को चरमपंथ की ओर ले जाएगी और लोग भारत के खिलाफ आवाज उठायेंगे।

खान ने पीओके की राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद में कई हज़ार लोगों की एक रैली को संबोधित किया। यह रैली जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के भारत के 5 अगस्त के फैसले के खिलाफ हर शुक्रवार को होने वाले पाकिस्तान सरकार के विरोध प्रदर्शन का हिस्सा था।

खान ने कहा, “जब अत्याचार अपने चरम पर पहुंच जाते हैं, तो लोग इस अपमानजनक जीवन से मौत को प्राथमिकता देना पसंद करेंगे। मैं भारत को बताना चाहता हूं कि हजारों लोगों को हिरासत में लेकर आप लोगों को चरमपंथ में धकेल रहे हैं।” उन्होंने मुस्लिम कार्ड खेलते हुए कहा कि लोग भारत के खिलाफ आवाज उठायेंगे और यह सिर्फ भारतीय मुसलमानों के बारे में नहीं है, दुनिया भर में 1.25 बिलियन मुस्लिम हैं। वे सभी कश्मीर के हालात देख रहे हैं।

खान ने कहा कि जब वह अगले सप्ताह न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भाग लेंगे तो वहां कश्मीरियों का बचाव करेंगे। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया कि वे भारत पर कश्मीरियों को आत्मनिर्णय का अधिकार देने के लिए दबाव डालें।

उन्होंने कहा, “मेरे लिए कश्मीरी लोगों का राजदूत बनने का कारण यह है कि मैं एक पाकिस्तानी, एक मुस्लिम और एक इंसान हूं।”

भारतीय अधिकारियों की ओर से खान की टिप्पणी पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई।

एलओसी के पार POK के युवाओं को घुसपैठ के लिए उकसाया

खान ने पीओके में लोगों से नियंत्रण रेखा (एलओसी) को पार नहीं करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, ”मैं जानता हूं कि आप में से कई लोगों ने लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पार करने की कोशिश की है, लेकिन मैं आज आपसे कहता हूं कि अभी लाइन ऑफ कंट्रोल पर जाने की जरूरत नहीं है। आप लोग तब लाइन ऑफ कंट्रोल जाना जब मैं आपसे जाने को कहूं। पहले मुझे यूनाइटेड नेशन्स जाने दो। दुनिया के लीडर्स को बताने दो। कश्मीर का केस लड़ने दो। कश्मीर का मसला हल नहीं किया, तो इसका असर पूरी दुनिया पर जाएगाा।”

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए, खान ने रैली को बताया कि केवल एक कायर ही इंसानों के प्रति क्रूरता कर सकता था और कथित भारतीय सैनिक कश्मीरियों पर अत्याचार कर रहे थे। एक बहादुर आदमी ऐसा कभी नहीं कर सकता। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितना अन्याय करते हैं, आप कभी भी सफल नहीं होंगे क्योंकि कश्मीर के लोग, चाहे वह महिलाएं हों, बच्चे हों या बुजुर्ग हों, अब मौत से नहीं डरते।

उन्होंने कहा, “हम सभी को पता होना चाहिए कि मोदी तब से आरएसएस के सदस्य हैं जब वह बच्चे थे। यह एक हिंदू चरमपंथी समूह है और वे मुसलमानों, ईसाइयों और सभी अल्पसंख्यकों से नफरत करते हैं। ”

खान ने कहा कि उनकी सरकार कश्मीर मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने में सफल रही है। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 50 वर्षों में पहली बार कश्मीर पर बैठक की थी और यूरोपीय संघ ने कहा था कि इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के अनुसार हल किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, “ब्रिटेन में 40 से अधिक सांसदों ने कश्मीर मुद्दा उठाया। मुझे खुशी है कि अमेरिकी सीनेटरों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को एक पत्र लिखा और उनसे इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया।”

यह पाकिस्तान के लिए अच्छा होगा कि वह पीओके भारत को सौंप दे : रामदास अठावले