हार्ट अ’टैक के ख’तरे से रहना चाहते हैं दूर तो फॉलो करें ये डाइट

New Delhi: आज भारत समेत पूरी दुनिया में हार्ट अ’टैक से होने वाली मौ’तों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। साल 2016 में हार्ट अ’टैक से होने वाली मौ’तों का आंकड़ा 2.8 मीलियन था। ऐसे में अब सवाल ये उठता है कि खुद को इस गं’भीर बीमारी के ख’तरे से कैसे बचा कर रखा जाए। तो आपको बता दें कि एक नई रिसर्च में इस बात का पता चला है कि जो लोग ‘प्लांट बेस्ड डाइट’ को फॉलो करते हैं उनमें हार्ट अ’टैक आने का ख‘तरा कम होता है।

प्लांट बेस्ड डाइट का मतलब एक ऐसी डाइट से है जिसमें ज्यादातर प्लांट आधारित चीजें शामिल होती हैं और जिसमें मीट, अंडे, डेयरी उत्पाद और जानवरों से बने दूसरी खाने-पीने की चीजें शामिल नहीं होती। ऐसी डाइट को फॉलो करने वाले लोगों में बहुत ज्यादा मीट और कार्बोहाड्रेट खाने वाले लोगों से हार्ट अ’टैक का ख‘तरा कम होता है।

ये अध्ययन जनरल ऑफ अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन में प्रकाशित हुआ। इस अध्ययन ने इस बात का समर्थन किया कि एक स्वस्थ वेज डाइट को फॉलो करना चाहिये जिसमें रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट और ऐनीमल फूड की मात्रा कम हो। ऐसी डाइट को फॉलो करने से लोगों में हार्ट अ’टैक से होने वाली मौ‘तों का ख’तरा कम होता है।

अध्ययन से इस बात का पता चला कि जिन लोगों ने शाकाहारी डाइट की बजाए ऐनिमेल प्रोडक्ट और रिफाइंड कार्ब से भरपूर आहार लिया  उनमें 31 से 32 प्रतिशत तक दिल की बीमारी से मौ’त होने की संभावना थी, वहीं बाकी सभी वजहों से मौ’त होने की संभावना 18 से 25 प्रतिशत थी।

इतना ही नहीं जिन लोगों ने प्लांट बेस्ड डाइट का सेवन नहीं किया उनमें हार्ट फे’लियर और दिल की दूसरी बीमारियां होने की संभावना 16 प्रतिशत थी उनसे तुलना करने पर जिन्होंने प्लांट बेस्ड डाइट ली। इस तरह से अगल आप हार्ट फे’लियर के खतरे से खुद को बचाना चाहते हैं तो जितना हो सके अपनी डाइट में फल और सब्जियों को शामिल करें।