ज’ल्लाद पवन ने कहा-अगर निर्भया के द’रिंदों को फां’सी हो जाती तो ना होता हैदराबाद कां’ड

New Delhi : तेलंगाना में वेटरनरी डॉक्टर से गैंगरेप और निर्मम ह’त्या की घटना से पूरे देश में गुस्सा है। मेरठ में रहने वाले ज’ल्लाद पवन ने बुधवार को कहा, अगर निर्भया के ह’त्यारों को सरकार फां’सी पर लटका चुकी होती तो शायद वेटरनरी डॉक्टर बेमौ’त म’रने से बच जाती।

ज’ल्लाद पवन ने कहा, निर्भया के ह’त्यारों को आखिर तिहाड़ जे’ल में पालकर रखा ही क्यों जा रहा है? निर्भया कांड के मु’जरिम हों या फिर वेटरनरी डॉक्टर के ह’त्यारे। इनका इलाज जब तक आनन-फानन में नहीं होगा, तब तक यह मुसीबतें समाज में बरकरार रहेंगी।

उन्होंने कहा, अब हम घर में नहीं बैठ सकते हैं। जरूरी है कि जितनी जल्दी हो निर्भया के मु’जरिमों को फां’सी पर लटकाया जाए। वेटरनरी डॉक्टर के ह’त्यारों को मुजरिम करार दिलवा दीजिए। हिंदुस्तान में निर्भया और वेटरनरी डॉक्टर के साथ हुए अपरा’ध खुद-ब-खुद बंद हो जाएंगे। जब तक ऐसे जा’लिमों को मौ’त के घाट नहीं उतरा जाएगा तब तक बाकी बचे हुए ऐसे क्रू’र इंसानों में भला भय कैसे पैदा होगा?

जल्लाद पवन ने कहा, मैं एकदम तैयार बैठा हूं। निर्भया के मुजरिमों के डे’थ-वारंट मिले और मैं तिहाड़ जेल पहुंच जाऊं। मुझे मुजरिमों को फांसी के फंदे पर टांगने के लिए महज दो से तीन दिन का वक्त चाहिए। सिर्फ ट्रायल करूंगा और अदालत के डेथ वारंट को अमल में ला दूंगा।