IB, RAW CBI सभी आपके कंप्यूटर पर रखेंगी नजर, मोदी सरकार के पास जमा होगा आपका पूरा डाटा

New Delhi: गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश के बाद अब देश की सबसे शीर्ष जांच एजेंसियां सभी के कंप्यूटर नजर रखेंगी। अब आप जो भी अपने कम्प्यूटर पर देखेंगे या सर्च करेंगे वो पूरा डाटा मोदी सरकार के पास जमा होगा। एजेंसियों को यह अधिकार देने की बात कही गई है कि वे इंटरसेप्शन, मॉनिटरिंग और डिक्रिप्शन के मकसद से किसी भी कंप्यूटर के डेटा को खंगाल सकती हैं। ऐसे में अब सीबीआई, रॉ और आईबी जैसी इन्वेस्टिगेटिव एजेंसियां आपके सिस्टम पर नजर बनाये रहेंगी।

आईबी, रॉ सीबीआई जैसी 10 एजेंसी शामिल

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने जिन सुरक्षा व खुफिया एंजेसियों को अधिकार दिया हैं, उनमें आईबी, रॉ, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, ईडी, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड, राजस्व खुफिया निदेशालय, सीबीआई, दिल्ली पुलिस के आयुक्त, एनआईए और जम्मू-कश्मीर, पूर्वोत्तर तथा असम के सिगनल इंटेलीजेंस निदेशालय शामिल है। 10 एजेंसियो को कॉल या डेटा इंटरसेप्ट करने का अधिकार दिया गया। इसके लिए अब सुरक्षा एंजसियों किसी शख्स या संस्थान की जांच के लिए गृह मंत्रालय से मंजूरी नहीं लेनी पड़ेगी। इसके लिए नोटिफिकेशन जारी किया जायेगा। अब किसी के भी मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर आदि से जानकारी हासिल कर सकती हैं।

Data privacy

केंद्र सरकार ने दी कंपनियों को इजाजत

केंद्र सरकार ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के धारा 69 के तहत यदि एंजेंसियों को किसी भी संस्थान या व्यक्ति पर देशविरोधी गतिविधियों में शामिल होने का शक होता हैं तो वे उनके कंप्यूटरों में मौजूद डाटा को जांच सकती हैं और उस पर कार्रवाई भी कर सकती हैं। हाल के दिनों में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें देश के दुश्मन हनीट्रैप के जरिए सेना के अधिकारियों और संवेदनशील पदों पर बैंठे अधिकारी से खुफिया जानकारी हासिल कर लेते हैं।