जब सड़क पर करेले बेच रही बूढी मां के घर महिला IAS ने भिजवाया राशन.. दिखाई दरियादिली

New Delhi : अपने काम करने के तरीके से चर्चा में रहने वालीं IAS किंजल सिंह ने 1550 रुपए में एक किलो करेले खरीद लिए। ऐसा उन्होंने सब्जी बेचने वाली एक गरीब बुजुर्ग महिला की मदद करने के चलते किया। इतना ही नहीं, दिन में करेले खरीदने के बाद किंजल रात में उस महिला के घर जरूरी सामान पहुंचाने भी पहुंचीं।

कुछ समय पहले की बात है किंजल फैजाबाद (अब अयोध्या) की डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट थीं। किंजल सिंह अपने काफिले के साथ वहां एक मस्जिद का इंस्पेक्शन कर लौट रही थीं। रास्ते में अचानक उनकी नजर इस बुजुर्ग महिला पर पड़ी। किंजल ने मूना से 1 किलो करेले का दाम पूछा। मूना ने करेले का दाम 50 रुपए किलो बताया। किंजल ने एक किलो करेले खरीदे तो, लेकिन उसकी कीमत 50 रुपए की जगह 1550 रुपए दी।

देर रात डीएम किंजल सिंह अफसरों के साथ मूना के झोपड़े पर भी गईं। घर की हालत देख डीएम ने तत्काल महिला के घर 5 किलो दाल, 40 किलो चावल, 50 किलो गेहूं और 20 किलो आटा पहुंचाने के इंस्ट्रक्शन दिए। महज आधे घंटे के अंदर राशन की सारी बोरियां सरकारी गाड़ी में लादकर मूना के घर भेज दी गईं।

डीएम के कहने पर मूना को उज्ज्वला स्कीम के तहत चूल्हा-सिलेंडर, एक टेबल फैन, सोने के लिए तख्त, पहनने के लिए दो साड़ी और चप्पल भी प्रोवाइड कराई गई। 75 साल की मूना और उसकी नातिन की तकलीफों को देखते हुए डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन ने उसे सरकारी मकान और हैंडपम्प भी देने का फैसला किया है।

2008 में आईएएस बनी थीं किंजल सिंह। किंजल महज 6 महीने की थीं जब उनके पिता की एनका’उंटर में ह’त्या कर दी गई थी। इनकी मां की भी कुछ समय बाद कैंसर के चलते मौ’त हो गई थी। किंजल ने अपनी छोटी बहन प्रांजल को बहुत छोटी उम्र से संभाला। 2008 में प्रांजल ने भी आईपीएस के लिए क्वालिफाई किया। दोनों बहनों ने पिता की ह’त्या का केस लंबे समय तक ल’ड़ा और गुन’हगारों को स’जा दिलवाई।