ऑक्सफोर्ड यूनियन में बोले अनुपम खेर : पढ़ाई में मुझे कभी 38% से अधिक अंक नहीं मिले

 New Delhi: एक्टिंग से राजनीति तक अपनी छाप छोड़ने वाले बॉलीवुड एक्टर Anupam Kher को ऑक्सफोर्ड यूनियन के एक इवेंट में स्पीकर के तौर पर बुलाया गया। उन्होंने एक ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी ।

Anupam Kher ने ऑक्सफोर्ड यूनियन के सदस्यों और अध्यक्ष को धन्यवाद देते हुए लिखा, ”इतनी गर्मजोशी, स्वागत और प्रशंसा के लिए @OxfordUnion के सदस्यों और @ genathis98 का धन्यवाद। जीवन के उतार-चढ़ाव, सिनेमा के बारे में और निश्चित रूप से भारत के बारे में आपसे बात करना एक सीखने का अनुभव था। भारतीय छात्रों को विशेष धन्यवाद। जय हो ”।

इससे पहले उन्होंने ट्वीट किया, ” मैं आज शाम @OxfordUnion में बोलने के लिए उत्साहित हैं। मुझे पता है कि मैंने शिमला में डीएवी हायर सेकंडरी हिंदी माध्यम स्कूल में अध्ययन किया है। पढ़ाई में मुझे कभी 38% से अधिक अंक नहीं मिले। लाइफ में बाइ गॉड…#KuchhBhiHoSaktaHai ।”

कपिल शर्मा हंसी के फव्वारे ही नहीं, आवाज के भी हैं जादूगर

वहीं ऑक्सफोर्ड यूनियन के ट्वीट के अनुसार, Anupam Kher ने कहा कि वह एक शिक्षित अभिनेता थे। वह ड्रामा स्कूल से स्वर्ण पदक विजेता थे लेकिन 80 के दशक में इसका कोई मतलब नहीं था। हेयरस्टाइल अभिनय से ज्यादा महत्वपूर्ण था। वह बेघर थे और रेलवे स्टेशनों पर सोते थे लेकिन इस सबके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी।

बंटवारे के गवाह लोगों के लिए सलमान और कैटरीना ने रखी फिल्म Bharat की स्पेशल स्क्रीनिंग

इसके अलावा Anupam Kher ने बताया कि वह हिंदी माध्यम के स्कूल से हैं और उनके सामने बैठे हुए लोग अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों से हैं लेकिन फिर भी वह यहां उनके सामने बैठे हुए हैं। उन्होंने कहा कि उनका जीवन एक उदाहरण है कि यदि आप सपने देखते हैं तो कुछ भी संभव है।

बता दें कि Anupam Kher ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत फिल्म आगमन से की थी। इसके बाद उन्‍होंने करीब 100 से ऊपर फिल्‍मों में काम किया। उन्‍होंने कई छोटी-बड़ी फिल्‍मों में भी काम किया। उन्‍होनें फिल्‍मों में लगभग हर तरह के किरदार निभाए हैं। उन्‍हें फिल्‍म ‘डैडी’ और ‘मैंने गांधी को न‍हीं मारा’ के लिए नेशनल फिल्‍म पुरस्‍कार भी मिल चुका हैा इसके अलावा भी उन्‍हें कई बार कई अवार्ड्स से सम्‍मानित किया जा चुका है।