होली 2019: कृष्णनगरी में ऐसा होता है रंगोत्सव, होली को दिलोंजान से जीने के लिए जरूर जाएं मथुरा

New Delhi: भगवान शिव के महाशिवरात्रि पर्व के बाद हर भारतीय को रंगों के त्योहार होली (Holi 2019) का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार रहता है। हिन्दू धर्म में भी इस पर्व का बहुत अधिक महत्व है। पंचांग के अनुसार, होली फाल्गुन माह की पूर्णिमा को मनाई जाती है, जिसे अन्य शब्दों में रंगों का त्योहार भी कहा जाता है।

हिन्दू धर्म के मुताबिक, यह पर्व 2 दिन मनाया जाता है। इसमें सबसे पहले दिन होलिका दहन किया जाता है और दूसरे दिन रंग वाली होली खेली जाती है। होलिका दहन के दिन लकड़ी के ढेर की पूजा की जाती है और उसकी परिक्रमा की जाती है। जबकि, होली वाले दिन रंगों, अबीर और गुलाल से होली खेली जाती है। इस साल 20 मार्च 2019 को होलिका दहन है और 21 मार्च 2019 को होली खेली जाएगी।

देश में होली (Holi 2019) की बात की जाए तो सबसे पहले मथुर की होलियां याद आ जाती हैं। बरसाना में किसी शाम हुरियारों पर हुरियारिनें प्रेम में पगी ला’ठियां बरसाती हैं तो चारों ओर जहां रंग से सराबोर नजर आता है।

खूब रंग, गुलाल उड़ता है और जमकर होली का हुड़दंग होता है। प्रियाकुंड पर कृष्ण रूपी ध्वजा का पूजन किया जाता है और होली की औपचारिक शुरुआत होती है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

हम आपको बता रहे हैं कि अगर आपको होली खेलनी है तो एक दिन मजा लीजिए। मथुरा में बरसाना की ल’ठमार होली के अगले दिन नंदगांव में ल’ठमार होली का आनंद बरस जाता है। अबीर गुलाल, होली के गीतों के बीच हुरियारिनों की ला’ठियों के तड़तड़ाहट ने फिजां में होली की मस्ती घुली रहती है।

इधर कई तरफ होली का हुड़दंग रहता है। हर कोई होली के रंग में भंग रहता है। बरसाना की ल’ठमार होली के अगले दिन यहां सखी स्वरूप ग्वाल होली का नंदगांव में फगुआ मांगने आते हैं। हुरियारे ढालों को लेकर नंदगांव की गलियों में ला’ठियां खाने को लालायित होते हैं।

यहां फूलों की होली भी होती है तो अबीर गुलाल की भी। होली के रंग में डबना है तो मथुरा में होली खेलकर आप होली के हुड़दंग को दिलों-जान से जी सकते हैं। चारो ओर भव्य नजारा होता है। कृष्ण नगरी में आप होली का ये रूप देखकर दंग रह जाएंगे।