अयोध्या में श्री राम का भव्य मंदिर बनने के राह में कांग्रेस हमेशा रोड़े अटकाते रही : अमित शाह

New Delhi : झारखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर गृहमंत्री अमित शाह ने चुनावी रैली की। झारखंड के चातरा में चुनावी जनसभा को संबोधित करते विपक्ष पर हमला बोला।

रैली में अमित शाह ने कहा कि झारखंड के चुनाव में कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। मैं पूछना चाहता हूं कि जब झारखंड के युवा अलग राज्य की मांग कर रहे थे, तब कांग्रेस का स्टैंड क्या था। उन्होंने आगे कहा कि जब-जब कांग्रेस की सरकार रही, तब झारखंड की स्थापना नहीं हो सकी। जबकि कई युवा शहीद हुए, कई लोगों ने अपना जीवन लगा दिया था।

चुनावी जनसभा को संबोधिच करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा ने ही देश में सबसे पहले अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। मैं भगवान बिरसा मुंडा को याद करके उन सैंकड़ों आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों को प्रणाम करता हूं, जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपने प्राण दे दिए।

उन्होंने कहा कि ये क्षेत्र नक्सलवाद से प्रभावित था, जब तक यहां भाजपा की सरकार नहीं थी तो शाम होने के बाद कोई बारात भी गांव में नहीं जाती थी। आज डंके की चोट पर शाम को बारात लेकर जाते हैं, किसी नक्सली की हिम्मत नहीं है की कोई गड़बड़ करे।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कई सालों से देश की जनता चाहती थी कि अयोध्या में प्रभु श्री राम का भव्य मंदिर बने। जब आप सब चाहते थे, तो अब तक मंदिर का रास्ता क्यों प्रशस्त नहीं होता था? क्योंकि कांग्रेस पार्टी कोर्ट में केस न चले इसमें रोड़े अटकाती थी। उन्होंने आगे कहा कि अनुच्छेद 370 और 35ए को कांग्रेस ने वोटबैंक की राजनीति के लिए संभालकर रखा था। मोदी जी को आपने 300 से ज्यादा सीटें जिताईं तो उन्होंने 370 और 35ए को उखाड़कर फेंक दिया। 370 और 35ए को हटाकर मोदी जी ने देश से आतंकवाद के खात्मे की शुरुआत कर दी है।