हेलीकॉप्टर शॉट का नायक- धौनी जिसने अपने कूल फैसलों से बदल दी इंडियन क्रिकेट की तस्वीर

New Delhi : धोनी ने अपने बचपन के दोस्त और झारखंड के पूर्व खिलाड़ी संतोष लाल से एक शॉट सीखा। धोनी ने अपने दोस्त से शुरुआती दौर में इस शॉट को खेलना सीखा और फिर बड़े स्तर पर इसका इस्तेमाल शुरू किया और देखते-देखते इसे अपना ट्रेडमार्क शॉट बना गये। जी हां हम बात कर रहे हैं हेलीकॉप्टर शॉट की। हेलीकॉप्टर शॉट आज भी उनके बल्ले से निकलने वाला दर्शकों का पसंदीदा शॉट है। देखने में यह जितना आसान है, खेलने में यह उतना ही मुश्किल। यही कारण है कि इस शॉट को आज भी सिर्फ धोनी ही बेहद आसानी और सटीकता से लगा पाते हैं।

भले ही हेलीकॉप्टर शॉट धोनी की वजह से मशहूर हुआ और उनके नाम के साथ जुड़ा, लेकिन उनसे पहले दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने भी एक मैच में इस शॉट को लगाया था। हालांकि सचिन और धोनी के शॉट में तकनीक और ताकत का फर्क था। दरअसल सचिन ने 2002 में ऐसे ही एक शॉट को इंग्लैंड के खिलाफ चेस्टर-ले-स्ट्रीट, डरहम में वन-डे मैच के दौरान खेला था।
धोनी का यह शॉट पहली बार 2006 में गोवा में इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच के दौरान देखने को मिला था। धोनी ने इसे स्टैंड की तरफ उठाकर खेला था। इसके बाद अंग्रेजी के महान ऑलराउंडर इयान बॉथम ने चकित होकर रेडियो पर कहा: बस इस शॉट में बैक-लिफ्ट और फॉलो-थ्रू देखें! निश्चित तौर पर नहीं मालूम कि उसने वहां क्या किया, लेकिन यह बहुत प्रभावी था, लगभग अपने पैरों के दम पर घूम गया।
धोनी का यह शॉट पहली बार 2006 में गोवा में इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच के दौरान देखने को मिला था। धोनी ने इसे स्टैंड की तरफ उठाकर खेला था। इसके बाद अंग्रेजी के महान ऑलराउंडर इयान बॉथम ने चकित होकर रेडियो पर कहा: बस इस शॉट में बैक-लिफ्ट और फॉलो-थ्रू देखें! निश्चित तौर पर नहीं मालूम कि उसने वहां क्या किया, लेकिन यह बहुत प्रभावी था, लगभग अपने पैरों के दम पर घूम गया।

बहरहाल लंबे वक्त से चर्चा चल रही है कि धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने का मन बना लिया है। आईपीएल के टलने से पहले धोनी इसकी तैयारियों में जुटे थे। माना जा रहा था कि यह लीग धोनी के लिए एक बार फिर से भारतीय टीम का दरवाजा खोलेगी। धोनी कब-क्या फैसला लेंगे ये शायद उनके अलावा कोई और नहीं जानता, जैसे वो मैदान में भी अपने फैसलों से सभी को चौंका देते थे। आईसीसी के सभी टूर्नामेंट जीतने वाले एमएस दुनिया के इकलौते कप्तान हैं। टी-20 विश्व कप, वन-डे विश्व कप और चैंपियंस ट्रॉफी के खिताब उनकी झोली में शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− three = 2