दुनिया में मौ’त का नंबर 1 कारण है दिल की बीमारी, डाइट में सुधार लाकर बच्चों को इससे बचाएं

New Delhi: भारत समेत पूरी दुनिया के लोगों पर दिल की बीमारी एक कहर बनकर बरस रही है। ऐसे में हर मां-बाप को ये चिं’ता सताती है कि कही उनका बच्चा इस बीमारी की च’पेट में ना आ जाए। लेकिन अगर आपको भी आज तक इस बात की चिं’ता थी तो अब आपको इस बारे में चिं’ता करने की कोई जरूरत नहीं है एक नए ​अध्ययन में इस बात का पता चला है कि शारीरिक गतिविधि करके और अपनी डाइट में सुधार लाकर दिल की बीमारी से मौ’त का ख’तरा कम हो जाता है।

रिसर्च ने बताया कि आरामदायक जिंदगी और अस्वस्थ खान’पान की वजह से अक्सर धमनियों रूक जाती हैं। इस तरह के व्यवहार के बार-बार संपर्क में आने की वजह से हार्ट अ’टैक और स्ट्रोक का ख’तरा बढ़ जाता है इसलिए बचपन में ही इससे बचाव करने की जरूरत होती है।

दुनिया भर में दिल की बीमारी मौ’त का सबसे बड़ा कारण है। इससे हर साल दुनिया भर में 17.9 मीलियन लोगों की मौ’त होती है। हर साल लगभग 3.2 मीलियन लोगों की मौ’त हर साल अपर्याप्त शारीरिक श्रम करने की वजह से होती है। इन नतीजों पर पहुंचने के लिए 433 ब्राजीलियन छात्रों का सर्वे किया गया।

हमारे बच्चे हमारा ​भविष्य हैं ऐसे में उनका स्वस्थ रहना हमारे लिए बहुत ही जरूरी है। बीमारी का इलाज करने से बेहतर हमारे लिए ये होगा अगर हम बचपन से खुद को और अपने बच्चों को इस तरह से तैयार करें कि उन्हें बीमारी हो ही ना तो हम बेहद ही आसानी से खुद को इन बीमारियों से बचा सकते हैं। ऐसा कैसे किया जाए इस बात को ही ये रिसर्च उजागर करती है।