हार्दिक पटेल बोले, राममंदिर निर्माण इनता जरूरी नहीं हैं, BJP और कामों पर भी दें ध्यान

New Delhi: मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के इस महीने मतदान होने वाले हैं। इस कड़ी में राजनीति पार्टी दौरे जनसभा कर रही है। वहीं कुछ नेता मंदिर-मस्जिद में जाकर जातिगत खेल खेल रहे हैं। जिसको लेकर पाटीदार नेता Hardik Patel ने पार्टियों पर निशाना साधा हैं। मध्यप्रदेश के खरगोन में हार्दिक पटेल ने कहा कि Congress और BJP के नेता आये दिन मंदिर जा रहे हैं लेकिन जनता को भूल गए हैं।

मीडिया से बात करते हुए हार्दिक पटेल ने राम मंदिर निर्माण के सवाल पर उन्होंने कहा कि राममंदिर निर्माण इतना जरूरी नहीं है जितना युवाओं को रोजगार तथा उनके मौलिक और संवैधानिक अधिकार दिलाना। उन्होंने कहा कि मंदिर तो हर कस्बे और गांव में है। वह राम मंदिर के निर्माण के खिलाफ नहीं है लेकिन बेरोजगारों को रोजगार दिलाने की प्राथमिकता पहले होना चाहिए।

Hardik Patel

इसके साथ ही राम मंदिर मुद्दे पर प्राइवेट मेंबर बिल लाए जाने को लेकर कहा कि जैसे की जस्टिस चेलमेश्वर ने बताया है कि इस तरह का बिल लाया जा सकता है लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने जनवरी 2019 की तारीख फिलहाल तय कर रखी है तो इसका मायने यह है कि उच्चतम न्यायालय चाहता है कि फिलहाल देश का माहौल नहीं बिगड़े। इसके अलावा, हार्दिक पटेल ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बैठक इस तरह के मुद्दे लाकर देश में 2019 के चुनाव जीतने के लिए प्लान तैयार कर रही है।

उन्होंने कहा कि जातिगत वैमनस्य, भारत-पाकिस्तान तनाव फैलाने और राफेल, आरबीआई आदि मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने हाल ही में राहुल गांधी द्वारा कर्ज माफ करने की बात पर सवाल किया कि वह इसे कैसे माफ कर पाएंगे। नरेंद्र मोदी ने भी दो करोड़ रोजगार की बात की थी और जनता को झूठे सपने दिखाए थे।  उन्होंने कहा कि सरकारें केवल वादे करने के बाद वादाखिलाफी करती हैं और किसी के पास समस्याओं के समाधान के लिए युक्ति नहीं है।