संसद में वित्तमंत्री ने बांटा हलुआ,बजट को प्रिंटिंग के लिए भेजने से पहले सबने किया मुंह मीठा

केन्द्रीय बजट पेश करने से पहले आज वित्त मंत्रालय की ओर से शनिवार को हलवा सेरेमनी का आयोजन किया गया।बता दें कि हर बार बजट पेश करने से पहले सरकार हलवा सेरेमनी का आयोजन करती है।जिसको वित्त मंत्री की ओर से नेताओं,अधिकारियों और कर्मचारियों को बांटा जाता है।इस सेरेमनी के दौरान वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के अलावा वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर भी मौजूद रहे।       

बता दें कि हर साल बजट की प्रिंटिंग शुरू होने से पहले वित्त मंत्रालय के दफ्तर में हलवा बनाया जाता है। परंपरा रही है कि वित्त मंत्री खुद इस कार्यक्रम की अगुवाई करते हैं। उनके अलावा वित्त मंत्रालय के अन्य अधिकारी भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लेते हैं।

हमारे देसकी परंपरा रही है कि हम जब भी कुछ नया,चुनौतीपूर्ण और बड़ा काम करते हैं तो उससे पहले मुंह मीठा कराया जाता है।यही कारण है कि बजट को प्रिंटिंग के लिए भेजने से पहले इस परंपरा को निभाया जाता है।

बता दें कि हलवा सेरेमनी के बाद बजट की प्रिंटिंग से जुड़े मंत्रालय के कर्मचारियों को प्रिटिंग प्रेस में अगले कुछ दिनों तक के लिे बाहरी संपर्क से दूर कर दिया जाता है।बजट की छपाई का काम पूरा होने तक वह किसी भी तरह के बाहरी संपर्क में नहीं होते हैं।

गौरतलब है कि 5 जुलाई को सरकार संसद में बजट पेश करेगी। इस बार के बजट में सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती किसानों की समस्याओं को लेकर है। पिछले हफ्ते हुई बैठक में भी प्रधानमंत्री ने इस पर चर्चा की थी। प्रधानमंत्री ने नीति आयोग की बैठक में कहा था कि कृषि क्षेत्र में सुधार, निजी निवेश पर सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है।

मंगलवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री की हुई बैठक में राजस्व बढ़ाने को लेकर भी बात हुई। आपको बता दें कि 2018-19 के वित्तीय वर्ष में भारत की जीडीपी पिछले 5 सालों में सबसे कम थी। जीडीपी दर गिरकर 6.8 फीसदी हो गई है।

5 जुलाई को पेश होने वाले बजट से पहले मोदी अधिकारियों से मिलकर तमाम चुनौतियों पर चर्चा कर रहे हैं।

आपको बता दें कि इस बार का बजट निर्मला सीतारमण पेश करेंगी। उनके सामने कई चुनौतियां होंगी। जैसे – गैर निष्पादित परिसंपत्तियां(NPA), NBFCs में तरलता लाना, रोजगार बढ़ाना, निजी निवेश लाना, कृषि संकट, निर्यात बढ़ाना।

इन चुनौतियां से निपटकर ही देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाया जा सकता है।

kaushlendra

सामाजिक और राजनीतिक विषयों पर लिखने में दिलचस्पी है।गांधी जी का फैन हूँ।समाज में जागरुकता लाना उद्देश्य है।पत्रकारिता मेरा प्रोफेशन है,जुनून है और प्यार भी है।
kaushlendra