गुरु नानक देव जयंती 2018: गुरु नानक देव के जीवन की यादें ताजा करते हैं ये 7 ऐतिहासिक गुरुद्वारे

New Delhi: हिंदी कैलेंडर के अनुसार, कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को गुरु नानक साहब का जन्म हुआ था। इस दिन को प्रकाश पर्व (Guru Nanak Jayanti 2018) के रूप में मनाया जाता है। गुरुद्वारों पर धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है।

गुरु नानक देव ने समाज में फैले अंधविश्वास और जातिवाद को मिटाने के लिए बहुत से कार्य किए। यही कारण है कि हर धर्म के लोग उन्हें सम्मान के साथ याद करते हैं। आइए, जानते हैं गुरु नानक देव के जीवन से जुड़े मुख्य गुरुद्वारों के बारे में…

गुरुद्वारा कंध साहिब

बटाला (गुरुदासपुर) गुरु नानक का यहां बीबी सुलक्षणा से 18 वर्ष की आयु में संवत्‌ 1544 की 24वीं जेठ को विवाह हुआ था। यहाँ गुरु नानक की विवाह वर्षगांठ पर प्रतिवर्ष उत्सव का आयोजन होता है।

गुरुद्वारा हाट साहिब

गुरुद्वारा हाट साहिब, सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला) में है। गुरु नानक ने बहनोई जैराम के माध्यम से सुल्तानपुर के नवाब के यहां शाही भंडार के देख-रेख की नौकरी प्रारंभ की। वह यहां पर मोदी बना दिए गए। नवाब युवा नानक से काफी प्रभावित थे। यहीं से नानक को ‘तेरा’ शब्द के माध्यम से अपनी मंजिल का आभास हुआ था।

गुरुद्वारा गुरु का बाग

सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला) में स्थित गुरुद्वारा गुरु का बाग में गुरु नानक देव जी का घर था, जहां उनके दो बेटों बाबा श्रीचंद और बाबा लक्ष्मीदास का जन्म हुआ था।

गुरुद्वारा कोठी साहिब

गुरुद्वारा कोठी साहिब, सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला) में है जहां नवाब दौलतखान लोधी ने हिसाब-किताब में गड़बड़ी की आशंका में नानक देव जी को जेल भिजवा दिया। लेकिन जब नवाब को अपनी गलती का पता चला तो उन्होंने नानक देव जी को छोड़ कर माफी ही नहीं मांगी, बल्कि प्रधानमंत्री बनाने का प्रस्ताव भी रखा, लेकिन गुरु नानक ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया।

Guru Nanak Jayanti 2018

गुरुद्वारा बेर साहिब

सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला) में गुरुद्वारा बेर साहिब वो जगह है जहां नानक देव का ईश्वर से साक्षात्कार हुआ था। जब एक बार गुरु नानक अपने सखा मर्दाना के साथ वैन नदी के किनारे बैठे थे, तो अचानक उन्होंने नदी में डुबकी लगा दी और तीन दिनों तक लापता हो गए, जहां पर कि उन्होंने ईश्वर से साक्षात्कार किया। सभी लोग उन्हें डूबा हुआ समझ रहे थे लेकिन वह वापस लौटे तो उन्होंने कहा- एक ओंकार सतनाम। गुरु नानक ने वहां एक बेर का बीज बोया, जो आज बहुत बड़ा वृक्ष बन चुका है।

गुरुद्वारा अचल साहिब

गुरुदासपुर में स्थित गुरुद्वारा अचल साहिब वह जगह है जहां अपनी यात्राओं के दौरान नानक देव रुके थे। यहीं पर नाथपंथी योगियों के प्रमुख योगी भांगर नाथ के साथ उनका धार्मिक वाद-विवाद भी हुआ था। योगी सभी प्रकार से परास्त होने पर जादुई प्रदर्शन करने लगे। यहीं नानक देव जी ने उन्हें बताया था कि ईश्वर तक प्रेम के माध्यम से ही पहुंचा जा सकता है।

गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक

गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक, गुरुदासपुर में स्थित है। जीवनभर धार्मिक यात्राओं के बाद नानक देव जी ने रावी नदी के तट पर स्थित अपने फार्म पर अपना डेरा जमाया। सन् 1539 ई. में वह परम ज्योति में विलीन हुए।