हेलमेट नहीं पहनने पर कोई भी पुलिसवाला नहीं काट सकता इनका चालान

New Delhi : गोविंदा की फिल्म का एक गाना है मेरी मर्ज़ी मैं चाहें ये करूं, मैं चाहें वो करूं, मैं चाहें यहां जाऊं मैं चाहें वहां जाऊं, मेरी मर्ज़ी। ऐसी ही मनमर्जी करते दिख रहे हैं ये महाशय। जबसे ट्रैफिक नियम सख्त हुए हैं, लोगों की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई है लेकिन इसी खौफ की दुनिया में एक डेयरिंगबाज है, जो सड़कों पर बिना हेलमेट के घूम रहे हैं। हैरानी की बात ये है कि पुलिसवाले उन्हें रोक तो लेते हैं, मगर फाइन नहीं लगा पाते। बता दें की उनकी बाइक पर ‘चच्चा विधायक हैं’ नहीं लिखा हुआ है!

नाम है जाकिर मेनन। रहने वाले गुजरात के छोटेपुर जिले के। जब भी सड़क पर इनका आमना – सामना किसी ट्रैफिक पुलिस वाले से होता है, तो पुलिस वाले अपना सिर धुन लेते हैं। पुलिस वाले इनसे सारे कागजात मांगते हैं। जाकिर बिना किसी हिचकिचाहट के दिखाते हैं फिर पुलिस वाले हेलमेट न होने पर फटकार लगाना शुरू करते हैं। मगर जाकिर एकदम रिलैक्स होकर कहते हैं, नहीं है। तो इस पर पुलिस वाले चालान काटने के लिए कहते हैं। लेकिन जब जाकिर अपनी परेशानी उन्हें बताते हैं तो पुलिस वालों को उन्हे छोड़ना ही पड़ता है।

कैसे काटोगे चालान
कैसे काटोगे चालान

500 के गमछे की 11 करोड़ की बोली, मोदी जी भी कमाल और उनका गमछा भी कमाल

उनका सिर बड़ा है, कसम से इतना बड़ा की उसपर शहर का कोई हेलमेट अटता ही नहीं है। जाकिर कहते हैं कि मैं कानून का बहुत सम्मान करता हूं मगर क्या करूं अपने सिर के आगे मजबूर हूँ। किसी भी दुकान पर जाता हूँ तो बिना हेलमेट के वापिस आ जाता हूँ। मेरे सिर के साइज का हेलमेट मिलता ही नहीं है। उनकी इस मजबूरी को देखते हुए पुलिस वाले हेलमेट के लिए उनका चालान नहीं काटते।